प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बताया भगवान का अवतार…

12वीं पास को 50 लाख रुपए तक का लोन देगी प्रदेश सरकार : CM

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भगवान का अवतार बताया है। उन्होंने कहा कि पीएम ने आपदा को अवसर में बदला है। मुख्यमंत्री उद्यमी क्रांति योजना के तहत मध्यप्रदेश सरकार ने बड़ा निर्णय लिया है। सरकार अब 12वीं पास को रोजगार शुरू करने के लिए एक लाख रुपए से 50 लाख रुपए तक लोन देगी। इसमें 18 से 40 उम्र के लोग शामिल होंगे। यही नहीं मार्जिन मनी के बजाय 3% ब्याज सरकार भरेगी। मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश के स्थापना दिवस पर सोमवार को भोपाल के लाल परेड मैदान में आयोजित समारोह में यह बात कही। सीएम ने कहा कि चंबल और नर्मदा एक्सप्रेस-वे बनेगा। 66 लाख हेक्टेयर कृषि भूमि सिंचित होगी।

नई घोषणा -

  • सौर ऊर्जा 2 मेगावॉट लगाने पर 3 रुपए में खरीदेंगे।
  • रोजगार शुरू 1 लाख से 50 लाख तक रोजगार शुरू करने देंगे। सरकार 3% ब्याज देंगी।
  • हर परिवार को घर दिया जाएगा।
  • सभी छूटे नाम भी जोड़ेंगे।

मध्यप्रदेश के 66वां स्थापना दिवस समारोह शुरू हो गया है। लाल परेड ग्राउंड पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, उनकी पत्नी साधना सिंह और राज्यपाल मंगू भाई पटेल भी पहुंच गए हैं। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ भी कार्यक्रम में मौजूद हैं। संस्कृति मंत्री ऊषा ठाकुर और मंत्री तुलसी सिलावट भी मौजूद हैं। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कमलनाथ ने कहा कि वर्तमान में कृषि के क्षेत्र में सबसे बड़ी चुनौती है। सभी मिलकर काम करेंगे। हम में से कुछ नहीं होंगे।10 साल इतिहास लिखा जाएगा। यहां सिंगर मोहित चौहान संगीतमय प्रस्तुति देंगे। इसका लाइव प्रसारण सीएम मध्यप्रदेश, जनसंपर्कएमपी और कल्चर डिपार्टमेंट के फेसबुक, टि्वटर सहित DD MP चैनल पर किया जा रहा है। इस बार आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश की थीम पर इसे मनाया जा रहा है। 

कार्यक्रम में लाल परेड ग्राउंड पर अतिविशिष्ट व्यक्तियों का आगमन और निर्गम 'सत्कार द्वार' से, विशिष्ट व्यक्तियों का आगमन 'सत्कार द्वार' और निर्गम 'आईटीआई द्वार' से और अन्य सभी व्यक्तियों का आगमन और निर्गम 'विजय द्वार' से करने की व्यवस्था की गई है। कार्यक्रमों में कोविड-19 संबंधी गाइडलाइन का पालन सुनिश्चित किया जाएगा। उप निर्वाचन वाले जिलों को छोड़कर सभी जिला मुख्यालयों पर समारोह होगा। मुख्य रूप से "आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के लिए जनभागीदारी अभियान" पर केंद्रित गायन, वादन, नृत्य, वाद-विवाद प्रतियोगिता, मैराथन दौड़, रैली, प्रभात फेरी आदि आयोजित किए जाएंगे। प्रमुख शासकीय भवनों और ऐतिहासिक इमारतों पर 1 नवंबर की रात्रि को प्रकाश की व्यवस्था की जाएगी।