नशे को जड़ से खत्म करने का लिया संकल्प…

मद्य निषेध दिवस के रूप में मनी महात्मा गाँधी जयंती

ग्वालियर। महात्मा गाँधी जी की जयंती को विभिन्न संस्थाओं द्वारा मद्य निषेध दिवस के रूप में मनाया गया। इसी कड़ी में जन अभियान परिषद के सहयोग से स्वयंसेवी संस्था रमन शिक्षा समिति द्वारा मद्य निषेध दिवस के उपलक्ष्य में ‘‘युवाओं में बढ़ती  नशे की प्रवृत्ति’’ विषय पर सेमीनार का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ अतिथियों ने राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्ज्वलन कर किया। 

ठाठीपुर में आयोजित हुए इस कार्यक्रम में शामिल हुए प्रतिभागियों को जीवन में कभी भी किसी भी प्रकार का नशा न करने की शपथ दिलाई गई। साथ ही नशामुक्ति के क्षेत्र में अच्छा कार्य करने वाले वालियन्टर को मेडल देकर सम्मनित किया गया। जन अभियान परिषद् के सभांग समन्वयक सुशील बरूआ ने इस अवसर पर कहा कि नशा एक सामाजिक बुराई है। नशा व्यक्ति को शारीरिक, आर्थिक तथा मानसिक तीनों रूप से खत्म कर देता है, इसलिए हम सभी को नशे से दूर रहना चाहिए। उन्होनें युवा पीढ़ी में बढ़ती नशे की लत पर चिंता जाहिर की । 

साथ ही कहा कि युवा  देश का भविष्य हैं, इसलिए हमें युवाओं को नशे से दूर करना होगा। कार्यक्रम में धर्मेन्द्र दीक्षित, ए.डी. सामनानी व मनोज दुबे सहित जन अभियान परिषद के अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे। साथ ही विद्यालयीन छात्र-छात्राओं, समाजसेवी एवं क्षेत्रीय नागरिकों ने इस आयोजन में हिस्सा लिया। स्वागत भाषण एवं कार्यक्रम की रूपरेखा संस्था अध्यक्ष हरिओम गौतम ने प्रस्तुत की।