माफिया के लोगों को रोकना वनरक्षक टीम को पड़ा महंगा…

अवैध रूप से लकड़ी काट रहे माफिया के लोगों ने वनकर्मियों पर किया हमला

ग्वालियर के जंगल में अवैध रूप से लकड़ी काट रहे माफिया के लोगों को रोकना वनरक्षक और उनकी टीम को महंगा पड़ गया। जैसे वनरक्षक माफिया के पास पहुंचा और उनको पकड़ने का प्रयास किया तो उन्होंने उसे और उसकी टीम को घेर लिया। सभी एक साथ वन टीम पर हमला करने के लिए दौड़े। किसी तरह वनरक्षक और उसके साथियों ने भागकर अपनी जान बचाई है। साथ ही पुलिस को सूचना दी। घटना उटीला के जंगलों की है। पुलिस ने तत्काल फोर्स के साथ दबिश देकर बदमाशों की छानबीन की है। वन विभाग के अमले ने काटी गई लकड़ी को जब्त कर लिया है। साथ ही वनरक्षक की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।ग्वालियर देहात में उटीला के जंगल में टिहोली के लकड़ी माफियाओं से वन विभाग का अमला परेशान है। यहां आए दिन लकड़ी काटकर चोरी करने की सूचनाएं आती हैं। 

जब टीम कार्रवाई करने जाती है तो हमला कर देते हैं। अशोक कॉलोनी निवासी छत्रपाल आर्य वनरक्षक हैं। अभी वह उटीला में पदस्थ हैं। वनरक्षक छत्रपाल को सूचना मिली थी कि जंगल में कुछ लोग अवैध रूप से पेड़ों की कटाई कर लकड़ी ले जाने का काम कर रहे हैं। वह अपने एक साथी के साथ जंगल में अवैध कटाई कर रहे लोगों को खदेड़ने पहुंचे थे। जैसे ही उन्होंने लकड़ी काटने से वन माफिया को रोका तो वह उनके साथ साथ गाली गलौज करने लगे और धीरे-धीरे विवाद कर वनरक्षक पर हमला बोल दिया। अचानक हमले को होता देख वनरक्षक अपनी जान बचाकर भागा और सीधे पुलिस थाने जा पहुंचा जहां उसने अपने ऊपर हुए हमले की शिकायत पुलिस अधिकारियों से की। वनरक्षक के उटीला थाना आकर शिकायत करने के बाद पुलिस ने तत्काल उसको साथ लेते हुए जंगल में फोर्स के साथ सर्चिंग की। 

सूचना मिलते ही वन विभाग की टीम भी वहां आ पहुंची। जहां पुलिस को आता देख अवैध रूप से पेड़ों की कटाई कर रहे आरोपी वहां से भाग निकले। तभी वनरक्षक ने काटी गई कई क्विंटल लकड़ी को भी जप्त कर लिया। वनरक्षक छत्रपाल की शिकायत पर पुलिस ने रामू यादव, नागेश और पप्पू खां के रूप में माफिया की पहचान करते हुए उनके खिलाफ शासकीय कार्य में बाधा और अन्य धाराओं में मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है। इस मामले में SP ग्वालियर अमित सांघी ने बताया कि जंगल में अवैध रूप से लकड़ी काट रहे आरोपियों को रोकने गए वन रक्षक पर उन्होंने हमला कर दिया। वह वहां से जान बचाकर भागे और उटीला थाने पहुंचे हैं। पुलिस ने तत्काल सर्चिंग की और वररक्षक की शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया है। तीन आरोपियों को नामजद किया गया है जिनकी तलाश की जा रही है।