दिल्ली से NDRF की 11 टीमें रवाना…

केरल में कई नदियां उफान पर, 6 की मौत, 4 लापता

दक्षिण के राज्य केरल में  लगातार हो रही बारिश के कारण नदियां उफान पर हैं. कई जगह लैंडस्लाइड्स के कारण हालात बेकाबू हो रहे हैं. अब तक मिली जानकारी के मुताबिक कोट्टायम में 6 शव मिले हैं जबकि 4 अभी भी लापता है. केरल में आसमान से बरसी तबाही की बारिश ने कइयों को बेघर कर दिया है. अरब सागर में लो प्रेशर एरिया केरल तट पर पहुंच गया है, जिससे दक्षिण और मध्य केरल में भारी बारिश हो रही है. बारिश के कारण त्रिवेंद्रम, कोल्लम, पदनमटिट्टा, कोट्टायम, इदुकी में नदियां, कैनाल उफान पर हैं. केरल में भारी बारिश के कारण कई इलाकों में रेड और ऑरेंज अलर्ट लगाया गया है. मौसम विभाग के अधिकारियों ने राज्य के पांच जिलों में भारी बारिश होने की आशंका के मद्देनजर रेड अलर्ट जारी किया है.

मौसम  विभाग के मुताबिक पदनमटिट्टा, एर्नाकुलम, कोट्टायम, इदुक्की, त्रिसूर में रेड अलर्ट जारी किया गया है. ये रेड अलर्ट अगले दो दिनों तक के लिए जारी किया गया है. वहीं कुछ इलाकों में बारीश को लेकर ऑरेंज अलर्ट भी जारी किया है. ये जिले हैं त्रिवंद्रम, कोल्लम, अलपुला, पालक्कड़, मलप्पुरम, कोलिकोड और वायनाड में ऑरेंज अलर्ट घोषित किया गया है. बाढ़ के ऐसे भयावह हालात के बीच रविवार और सोमवार को भी भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है. हालात ये हैं कि प्रदेश में रेस्क्यू और बचाव के लिए आर्मी और एनडीआरएफ की टीमों को तैनात किया गया है. 

सेना की एक टुकड़ी कोट्टायम में तैनात है, वहीं एक और दूसरी टुकड़ी त्रिवेंद्रम में तैनात की गई है. एनडीआरएफ की 7 टीमें भी राहत-बचाव में लगाई गई हैं. एयर फोर्स को फिलहाल तैयार रहने को कहा गया है. Mi 17 और सारंग हेलीकॉप्टर स्टैंड बाई पर हैं. कोट्टयम, इडुकी और पथनमथिट्टा जिलों के पहाड़ी इलाकों में कुछ ऐसी ही स्थिति उत्पन्न हो गई है जैसी स्थिति वर्ष 2018 और 2019 की विनाशकारी बाढ़ के दौरान उत्पन्न हुई थी. 2018 में आई बाढ़ ने कुछ ऐसी ही तबाही मचाई थी. जिसमें 450 से ज्यादा लोगों की जान चली गई थी. मौजूदा हालात को देखते हुए सीएम विजयन ने शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक कर राहत और बचाव के इंतजामों पर जोर दिया है.. औरां पर्यटन के स्थलों को अगली सूचना तक बंद करने को कहा है.