लखीमपुर खीरी हिंसा के मामले में…

आशीष मिश्रा को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत

लखनऊ। लखीमपुर खीरी हिंसा के मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा 'टेनी' के बेटे आशीष मिश्रा को शनिवार को करीब 12 घंटे की पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया गया। आधी रात के बाद उसे अदालत में पेश किया, जहां से उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया। न्यायिक मजिस्ट्रेट ने आशीष को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में लखीमपुर खीरी जिला जेल भेज दिया है। आशीष की पुलिस रिमांड के लिए अर्जी दी गयी थी और अदालत ने इस अर्जी पर सुनवाई के लिए 11 अक्टूबर की तारीख तय की है। मामले की जांच के लिए गठित एसआईटी का नेतृत्व कर रहे पुलिस उप महानिरीक्षक (मुख्यालय) उपेंद्र अग्रवाल ने शनिवार रात लगभग 11 बजे आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी की जानकारी दी। उन्हों ने बताया, 'आशीष ने पुलिस के सवालों का उचित जवाब नहीं दिया और जांच में सहयोग नहीं किया। वह सही बातें नहीं बताना चाह रहे हैं, इसलिए उन्हें गिरफ्तार किया गया।'

सूत्रों के मुताबिक, लखीमपुर हिंसा के मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा से ये सवाल पूछे गए- तिकुनिया में क्या कार्यक्रम होना था? कार्यक्रम किस वक्त शुरू हुआ और किस वक्त खत्म हुआ? कार्यक्रम में उनके साथ कौन-कौन लोग मौजूद थे? तिकुनिया में जो घटना हुई, उसकी शुरुआत कैसे हुई? घटना के वक्त आप कहां पर थे?  घटनास्थल पर मौजूद न होने के क्या-क्या साक्ष आपके पास उपलब्ध हैं? जिस थार जीप से किसान कुचले गए वो किसके नाम पर है? थार जीप कौन चला रहा था और उसमें कौन-कौन लोग बैठे हुए थे? क्या आपके साथ लखनऊ के पूर्व मेयर अखिलेश दास का भतीजा अंकित दास भी था? थार जीप के पीछे चल रही है फॉर्च्यूनर कार किसकी थी? क्या फॉर्च्यूनर कार लखनऊ के पूर्व मेयर अखिलेश दास के भतीजे अंकित दास की थी? 

क्या फॉर्च्यूनर कार में अंकित दास बैठा हुआ था और उसके साथ आप भी थे? घटनास्थल पर गोलियां चलने की आवाजें आ रही है क्या गोलियां आपकी तरफ से चलाई गई थी या फायरिंग किसानों ने की? आपके पास कितने लाइसेंसी असलहे हैं? अगर आप काफिले की गाड़ियों में शामिल थे उस वक्त आपके पास कौन सा लाइसेंसी असलहा था? पिस्टल लोड करते हुए एक व्यक्ति का वीडियो वायरल हो रहा है क्या वो वीडियो आपका है? आप को घटना की जानकारी कब और कैसे मिली? घटना के बाद आप कहां गए? क्या आपने घटना की जानकारी पुलिस को दी थी? पुलिस ने शुक्रवार सुबह 10 बजे आपको अपना पक्ष रखने के लिए पुलिस लाइन में क्राइम ब्रांच के ऑफिस बुलाया था, आप वहां क्यों नहीं पहुंचे?

लखीमपुर हिंसा में चार किसानों सहित आठ लोगों की मौत के मामले में आशीष मिश्रा और अन्य लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। मारे गए ड्राइवर हरिओम की फोटो अहम सबूत बना। पोस्टमार्टम के दौरान हरिओम पीले रंग की धारीदार शर्ट पहने था, जबकि आशीष ने हरिओम को थार जीप का ड्राईवर बताया था। वायरल वीडियो और फोटो में थार जीप का ड्राइवर सफेद शर्ट में देखा जा सकता है। घटना वाले दिन आशीष मिश्रा सफेद शर्ट में था। गिरफ्तार आरोपियों में से भी एक ने थार जीप में मोनू के होने का जिक्र किया है। घटना के तुरंत बाद मोनू की राइस मिल में गए थे आरोपी। थार जीप से मिले 315 बोर के मिस कारतूसों की जांच जारी है। आशीष मिश्रा के 315 बोर के लाइसेंसी असलहे की कारतूस होने का शक है। एसआईटी ने प्रशासन से फॉरेंसिक टीम की मांग की है।