कलेक्टर एवं SP की मौजूदगी में एक दूसरे से गले मिले और दिलाया भरोसा…

सामाजिक सदभाव बिगाड़ने वालों के खिलाफ कठोरतम कार्रवाई की चेतावनी

ग्वालियर। सामाजिक एवं जातिगत सदभाव बनाए रखने के उद्देश्य से गुर्जर एवं राजपूत–क्षत्रिय समाज के प्रतिनिधिगणों ने कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह एवं पुलिस अधीक्षक अमित सांघी की मौजूदगी में एक साथ बैठकर सौहार्द्रपूर्ण माहौल में चर्चा की। एक दूसरे के गले मिले और जिला प्रशासन व पुलिस को भरोसा दिलाया कि हम सब मिल-जुलकर समाज में अमन शांति व सदभाव बनाए रखने में पूरा सहयोग देंगे। साथ ही दोनों समुदाय के प्रतिनिधियों ने यह भी कहा कि सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट डालने वालों एवं कानून का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिये प्रशासन व पुलिस स्वतंत्र है। कलेक्टर  कौशलेन्द्र विक्रम सिंह एवं पुलिस अधीक्षक अमित सांघी ने शहर के चिरवाई नाके पर स्थापित सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा को लेकर दो समुदायों के बीच चल रहे विवाद के संबंध में उच्च न्यायालय खण्डपीठ ग्वालियर में दायर हुई याचिका की जानकारी बैठक में दी। अधिकारी द्वय ने दोनों समुदायों के प्रतिनिधियों से कहा कि अब उच्च न्यायालय में प्रकरण  विचाराधीन है। इसलिये निर्णय का इंतजार करें। 

साथ ही स्पष्ट किया कि प्रशासन न्यायालय के निर्णय को हर हाल में लागू कराएगा। अधिकारी द्वय ने यह भी स्पष्ट किया कि शहर की आवोहवा व अमन शांति बिगाड़ने वालों से प्रशासन व पुलिस सख्ती से निपटेगी। अधिकारी द्वय ने कहा  शहर में इस प्रतिमा को लेकर हुए विवाद के बाद भारतीय दण्ड संहिता की धारा-144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी कर किसी भी प्रकार के धरना, प्रदर्शन, जुलूस व सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक संदेश प्रसारित करने इत्यादि पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाया गया है। इसका उल्लंघन कदापि बर्दाश्त नहीं होगा और कठोर कार्रवाई होगी। कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि अब यदि किसी ने धारा-144 का उल्लंघन कर सामाजिक सदभाव बिगाड़ने की कोशिश की तो उसके खिलाफ धारा-188 के तहत कार्रवाई के साथ-साथ एनएसए व जिला बदर जैसी कठोर कार्रवाई भी की जाएगी। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि जो लोग धरना, जुलूस व भड़काऊ पोस्ट इत्यादि के जरिए कानून का उल्लंघन करेंगे, उन सभी के शस्त्र लायसेंस भी तत्काल प्रभाव से निरस्त किए जायेंगे। पुलिस अधीक्षक अमित सांघी ने बैठक में दोनों समुदाय के प्रतिनिधियों को यह भी जानकारी दी कि सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा को लेकर जिन लोगों ने पिछले दिनों धारा-144 का उल्लंघन कर अवैध रूप से धरना व प्रदर्शन किए हैं, उन सभी की वीडियोग्राफी कराई गई है और ऐसे लगभग 239 लोगों के नाम उनके सामने आ गए हैं। आगे यदि कानून का उल्लंघन किया तो इन सभी के खिलाफ पुलिस कार्रवाई कर दी जायेगी। 

बैठक में दोनों समुदायों के लोगों ने प्रशासन व पुलिस को भरोसा दिलाया कि वे अब किसी भी प्रकार का धरना, प्रदर्शन व ऐसा कोई कृत्य नहीं करेंगे, जिससे कानून का उल्लंघन होता हो। साथ ही कहा कि यदि उनके समुदाय से कोई भी व्यक्ति कानून का उल्लंघन करता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाए। दोनों समुदाय के लोगों ने कहा कि कानून का उल्लंघन करने वाले अपने-अपने समाज के लोगों का नाम भी पुलिस व प्रशासन को बताने में वे सहयोग करेंगे। इस अवसर पर अपर कलेक्टर आशीष तिवारी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हितिका वासल, एडीएम रिंकेश वैश्य, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक संजय डण्डौतिया सहित जिला प्रशासन व पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। साथ ही गुर्जर समाज से साहब सिंह गुर्जर, एम पी सिंह, भीकम सिंह, अलबेल सिंह घुरैया, रूकबेल सिंह घुरैया व थान सिंह गुर्जर सहित अन्य प्रतिनिधिगण मौजूद थे। इसी तरह राजपूत–क्षत्रिय समाज से राजेन्द्र सिंह भदौरिया, बृजपाल सिंह तोमर, अशोक सिंह भदौरिया, शिवेन्द्र राठौर, रघुराज सिंह तोमर, सुरेन्द्र तोमर, मोनू सोलंकी व छोटू सिंह तोमर सहित क्षत्रिय समाज के अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।