भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर में बनेंगे रिंग रोड…

भारतमाला प्रोजेक्ट में शामिल होगा नर्मदा एक्सप्रेस-वे

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार देर शाम केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी से मध्यप्रदेश की सड़कों से जुड़े मुद्दों पर बैठक की। बैठक में फैसला लिया गया कि मध्यप्रदेश के चारों बड़े शहरों भोपाल, इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर में रिंग रोड का निर्माण नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) करेगा। इसके लिए मध्यप्रदेश सरकार जमीन उपलब्ध कराएगी। यह प्रोजेक्ट 1 साल में पूरा किया जाएगा। इसके साथ ही अटल एक्सप्रेस-वे(चंबल) के दोनों तरफ इंडस्ट्रियल क्लस्टर बनेंगे और 900 KM लंबे नर्मदा एक्सप्रेस-वे को भारतमाला प्रोजेक्ट में शामिल किया जाएगा। बैठक के बाद शिवराज ने बताया कि अटल एक्सप्रेस-वे के दोनों तरफ इंडस्ट्रियल क्लस्टर निर्माण को लेकर चर्चा हुई। 

इसके साथ ही भोपाल, जबलपुर और ग्वालियर में रिंग रोड निर्माण पर सहमति बनी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश के इन तीनों शहरों में रिंग रोड का निर्माण इंदौर के सुपर कॉरिडोर की तर्ज पर किया जाएगा, ताकि रिंग रोड के दोनों तरफ औद्योगिक गतिविधियां चालू हो सके। बैठक में यह तय किया गया कि मध्य प्रदेश में इस साल 10 हजार करोड़ के प्रोजेक्ट शुरू होंगे। मध्यप्रदेश सरकार की तरफ से मुख्य सचिव इकबाल सिंह चौहान ने बैठक में कहा कि ये प्रोजेक्ट अगले दो वित्तीय वर्षों में पूरे किए जाएंगे, इस पर गडकरी ने कहा कि ये प्रोजेक्ट इसी साल शुरू किए जाएं। 

उन्होंने मुख्यमंत्री के अनुरोध पर सेंट्रल रोड फंड से मध्यप्रदेश को 1500 करोड़ रुपए इसी सप्ताह रिलीज करने की स्वीकृति भी दी। गडकरी ने 16 सितंबर को इंदौर में 9577 करोड़ रुपए लागत की 1356 किलोमीटर लंबी 34 सड़क प्रोजेक्ट्स का लोकार्पण और शिलान्यास किया था। इस दौरान उन्होंने मध्यप्रदेश के प्रोजेक्ट्स के लिए 1 लाख करोड़ रुपए की घोषणा की थी। उन्होंने बुधनी से जुड़े तीन नेशनल हाईवे को भी मंजूरी दी थी। मुख्यमंत्री ने कहा था कि केन्द्र सरकार के सहयोग से हम प्रदेश को देश का लॉजिस्टिक कैपिटल बनाएंगे। बुधनी विधानसभा क्षेत्र तीन राष्ट्रीय राजमार्ग के बीच है। यदि तीनों को जोड़ा जाए तो 92 किमी सड़क की जरूरत होगी। 

उन्होंने केंद्रीय मंत्री से अनुरोध किया कि इस मार्ग को भी राष्ट्रीय राजमार्ग में जोड़ने की स्वीकृति प्रदान करें, जिसे गडकरी ने मंजूरी दी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान दिल्ली प्रवास के दौरान भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की। दोनों के बीच करीब एक घंटे मुलाकात चली। इस दौरान मध्यप्रदेश में सरकार के कामकाज को लेकर चर्चा हुई। बताया जाता है कि शिवराज ने चार दिन पहले नड्डा से मुलाकात करने का समय मांगा था। दोनों नेताओं के बीच सरकार और संगठन को लेकर चर्चा हुई है। मुख्यमंत्री ने वैक्सीनेशन के अलावा सुराज और सुशासन के अभियान की जानकारी नड्डा को दी।