मोबाईल के माध्यम से…

आशा कार्यकर्ता ई-मॉड्यूल द्वारा सीख रही हैं डेंगू–मलेरिया की रोकथाम के तरीके 

ग्वालियर। मच्छर जनित बीमारियां (डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनियाँ, जीका, फाइलेरिया, एवं जे.ई बुखार) के नियंत्रण की दिशा में जिला स्वास्थ्य समिति ग्वालियर व फेमिली हेल्थ इंडिया एम्बेड परियोजना द्वारा संयुक्त रूप से प्रयास किये  जा रहे हैं। जिले की 900 आशा कार्यकर्ताओं को मलेरिया – डेंगू की रोकथाम विषय पर विशेष प्रशिक्षण दिया जा रहा हैं | जिला मलेरिया अधिकारी डा. मनोज पाटीदार ने बताया कि विगत सप्ताह के दौरान जिले की 240 शहरी व 165 ग्रामीण आशा कार्यकर्ताओं को डेंगू मलेरिया की रोकथाम की दिशा में विशेष प्रशिक्षण दिया जा चुका हैं और ये क्रम लगातार जारी है।

16 अगस्त को भितरवार ब्लाक में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर 45 आशा कार्यकर्ताओं का प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमे मुख्य प्रशिक्षक के रूप में जिला समन्वयक एम्बेड परियोजना विजय मिश्रा व सहायक मलेरिया अधिकारी पान सिंह द्वारा सहभागियों को मच्छर जनित बीमारियों के विषय में बताते हुए उनसे बचाव के लिए आवश्यक साधनों जैसे नियमित रूप से मच्छरदानी के प्रयोग, आस पास अनावश्यक पानी का जमाव रोकने, घरो की छतों पर पड़े कबाड़ को हटाने तथा वर्षात में मच्छर रोधी साधनों को अपनाने के लिए ग्रामीणों को प्रेरित किया गया | 

प्रशीक्षण के दौरान सभी आशा कार्यकर्ताओं को एक लिंक http://fhindia.org/fhi-emodule/ उपलब्ध कराई गयी जिस पर आम जनता अपने एंड्राइड फोन पर मलेरिया डेंगू के लक्षणों, बचाव, रोकथाम के साधनों, उपचार व अन्य आदि के सम्बन्ध में सचित्र व फिल्म आदि के माध्यम से सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकता है | उक्त लिंक के मध्यमम से आशा कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण दे कर मरीजों के रक्त परीक्षण के विषय में भी व्यावहारिक रूप से प्रशिक्षित किया गया | प्रशिक्षण के अंत में सभी आशा कार्यकर्ताओं को विषय से सम्बंधित पठन-पाठन सामग्री, जाँच किट, सेनिटाईजर, डोज़ चार्ट आदि आवश्यक सामग्री का वितरण किया गया, जिसके साथ सभी आशा कार्यकर्ताओं ने अपने गाँव को डेंगू–मलेरिया मुक्त करने का संकल्प भी लिया |