शासकीय कार्य में बाधा पहुंचाने सहित कई अन्य धाराओं में प्रकरण दर्ज…

महिला को मुक्त कराने पहुंची पुलिस टीम पर 12 लोगों ने किया हमला

मुरैना। बंधक बनाकर रखी गई महिला को मुक्त कराने पहुंची पुलिस टीम पर एक ही परिवार के 10 से 12 लोगों ने हमला कर दिया। पुलिस के डायल 100 वाहन पर पथराव कर पुलिस की सुपुर्दगी में आई पीड़ित महिला को फिर से आरोपित ले गए। मामला जौरा थाने के देवगढ़ गांव का है। इस मामले में दो महिलाओं सहित 10 लोगों पर मामला दर्ज हुआ है। दरअसल मंगलवार की शाम गढ़ीपुरा गांव से डायल 100 नंबर पर एक शिकायत हुई, जिसमें एक महिला को जबरन घर में कैद रखने की जानकारी दी गई थी। जौरा पुलिस की दोनों डायल 100 गाड़ियां खराब हैं, इसीलिए कैलारस थाने की डायल 100 टीम को गढ़ीपुरा गांव भेजा गया। डायल 100 की पुलिस टीम ने भारत रावत के घर से महिला को मुक्त कराया और गाड़ी में बैठा लिया। 

पुलिस टीम महिला को थाने ला रही थी, तभी 10 से 12 लोगों की भीड़ ने पुलिस वाहन को घेर लिया और पथराव शुरू कर दिया। पथराव से बचने के लिए पुलिसकर्मी व वाहन का ड्राइवर इधर-उधर भागने लगे। इसी दौरान गाड़ी में बैठी महिला को फिर से आरोपित पकड़कर अपने साथ ले गए। पथराव में कैलारस थाने का आरक्षक दीपेन्द्र सिंह परमार घायल हुआ है, जिसकी शिकायत पर जौरा पुलिस ने भारत रावत, जगदीश रावत, सोबरन रावत, मुन्नाालाल रावत, छोटे सिंह रावत, रामवती रावत, गिरिजा रावत, महेन्द्र रावत और चना रावत के खिलाफ बलवा, पथराव और शासकीय कार्य में बाधा पहुंचाने सहित कई अन्य धाराओं में प्रकरण दर्ज हुआ है।

महिला को घर में जबरन रखने की सूचना पर पुलिस टीम गढ़ीपुरा गांव गई थी। टीम महिला को थाने ला रही थी तभी एक ही परिवार के लोगों ने हमला कर दिया और महिला को फिर से जबरन अपने साथ ले गए। इस महिला ने आरोपितों का कोई रिश्ता है, या महिला कहीं बाहर की है, यह तभी पता लगेगा जब महिला से पूछताछ हो पाएगी - मंगल सिंह पपोला, टीआई जौरा