स्पीकर की ओर पर्चे उछालने वालों पर होगी कार्रवाई !

पेगासस पर हंगामे के बाद लोकसभा स्थगित

पेगासस जासूसी कांड, महंगाई और कृषि कानूनों के मुद्दे पर विपक्ष ने बुधवार को भी संसद में भारी हंगामा किया। लोकसभा में विपक्षी सांसदों ने स्पीकर की तरफ पर्चे फेंके और खेला होबे के नारे लगाए। इसके चलते सदन की कार्यवाही पहले दोपहर 12.30 बजे तक और फिर 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। 2 बजे कार्यवाही शुरू हुई तो विपक्ष ने फिर हंगामा शुरू कर दिया। ऐसे में कार्यवाही 3 बजे तक के लिए और फिर 4 बजे तक स्थगित करनी पड़ी। 4 बजे सदन शुरू होने पर भी हंगामा नहीं रुका तो कार्यवाही गुरुवार 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। सूत्रों के हवाले से कहना है कि आसंदी की तरफ पर्चे उछालने और असम्मानजनक बर्ताव करने पर लोकसभा के 10 सांसदों को सदन से निलंबित किया जा सकता है। सांसद गुरजीत सिंह औजला, टीएन प्रथापन, मणिकम टैगोर, रवनीत सिंह बिट्टू, हिबी ईडेन, जोति मणि सेन्नमलई, सप्तगिरि संकर उलका, वी वैथिलिंगम और ए एम आरिफ का निलंबन हो सकता है। उधर राज्यसभा में भी कार्यवाही शुरू होते ही विपक्ष ने हंगामा शुरू कर दिया। 

इसके चलते कार्यवाही 12 बजे तक स्थगित कर दी गई। 12 बजे कार्यवाही फिर से शुरू हुई, लेकिन हंगामा जारी रहा। ऐसे में सदन की कार्यवाही 2 बजे तक स्थगित करनी पड़ी। 2 बजे कार्यवाही शुरू हुई तो सदन में जुवेनाइल जस्टिस (केयर एंड प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रेन) अमेंडमेंड बिल-2021 पास कर दिया गया। हालांकि लगातार शोर-शराबे के चलते सदन गुरुवार 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया। सदन के बाहर एक जैसी विचारधारा वाले 14 विपक्षी दलों ने एक अहम मीटिंग की और सरकार को घेरने की योजना बनाई। मीटिंग के बाद कांग्रेस नेता और वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने कहा कि पेगासस जासूसी केस, महंगाई और किसानों के मुद्दे पर हम कोई समझौता नहीं करेंगे विपक्ष की बैठक में कांग्रेस, द्रविड़ मुनेत्र कड़गम, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, राष्ट्रीय जनता दल, समाजवादी पार्टी, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, नेशनल कॉन्फ्रेंस, आम आदमी पार्टी, इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग, राष्ट्रीय समाज पार्टी, केरल कांग्रेस (एम), विदुथालाई चिरुथैगल कच्ची और एसएस पार्टी के नेता शामिल थे। 

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने विपक्ष के हंगामे पर कहा कि कांग्रेस और तृणमूल सांसदों ने संसद का कामकाज रोकने की कोशिश की है। वे अपना विरोध जता सकते हैं, लेकिन इसकी एक सीमा होती है। उन्होंने स्पीकर पर, मंत्रियों पर और मीडिया गैलरी में भी पर्चे उछाले हैं। ठाकुर ने सवाल किया है कि आखिर विपक्ष चर्चा से क्यों भाग रहा है? पेगासस मामले पर संसद के दोनों सदनों में मंगलवार को भी जमकर हंगामा हुआ था। इसके चलते लोकसभा की कार्यवाही 9 बार और राज्यसभा की 4 बार बाधित हुई थी। इसके बावजूद हंगामा नहीं रुका तो दोनों सदनों की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित कर दी गई। मानसून सत्र के पहले हफ्ते में संसद के दोनों सदनों में विपक्षी दलों ने तीन नए केंद्रीय कृषि कानूनों और पेगासस जासूसी मामले के साथ कई दूसरे मुद्दों पर जमकर हंगामा किया। पिछले हफ्ते सिर्फ मंगलवार को राज्यसभा में चार घंटे सामान्य ढंग से कामकाज हो पाया, जब कोरोना के चलते देश में बने हालात को लेकर सभी दलों के बीच आपस में बनी सहमति के आधार पर चर्चा हुई थी।