पति की गिरफ्तारी के बाद जेठ ने जबरन बनवाया वीडियो…

पैसों के लिए पत्नी को पिलाया तेज़ाब !

ग्वालियर। ग्वालियर के डबरा में 3 लाख रुपए के लिए पत्नी को एसिड पिलाकर मारने का प्रयास करने वाले वीरेन्द्र कुमार जाटव और उसकी भाभी को जेल भेजा जा चुका है। अब बुधवार रात सामने आए एक वीडियो से इस मामले में नया मोड़ आ गया है। इसमें पीड़िता पुलिस से पति को छोड़ने और खुद एसिड पीने की बात कह रही है। इसके बाद गुरुवार सुबह एक और वीडियो सामने आया। यह वीडियो पीड़िता ने अपने परिजन से जारी करवाया है। इस वीडियो में वह कह रही है कि उसे उसके पति और ससुराल वालों ने ही तेजाब पिलाया है। 

जब उसे पुलिस ने गिरफ्तार किया तो उसके जेठ सुरेन्द्र ने उसके भाई की हत्या करने की धमकी देकर जबरदस्ती खुद तेजाब पीने की बात कहलवाई है। गुरुवार सुबह 10 बजे महिला की हालत और खराब हो गई है। ग्वालियर के घाटीगांव सिमरिया निवासी 22 साल की शशि जाटव की शादी 17 अप्रैल 2021 को डबरा के रामगढ़ निवासी वीरेन्द्र कुमार जाटव के साथ हुई थी। बताया जाता है कि शशि के मायके वालों ने शादी में 10 लाख रुपए तक खर्च किए थे। अभी लॉकडाउन के बाद वीरेन्द्र को नई कार खरीदनी थी, जिसमें 3 लाख रुपए कम पड़ रहे थे। उसने पत्नी को मायके से तीन लाख रुपए लाने के लिए कहा। 

27 जून की रात को उससे फिर 3 लाख रुपए के लिए कहा गया। इस बार मना करने पर पति ने शशि को हत्या करने के इरादे से जबरन एसिड पिला दिया। एसिड पीते ही नवविवाहिता गले में जलन मचने से तड़पने लगी। तत्काल ग्वालियर में भर्ती कराया, लेकिन उसकी हालत बेहद खराब होने पर उसे दिल्ली रैफर किया गया था। इसके बाद डबरा सिटी थाना में सिर्फ दहेज प्रताड़ना का मामला दर्ज किया गया था। दिल्ली में वहां दो दिन पहले शशि ने SDM के सामने बयान में पति के द्वारा एसिड पिलाने की बात कही थी। 

इसके बाद राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य स्वाति मालीवाल के इस मामले में CM शिवराज सिंह को ट्वीट करने के बाद से यह मुद्दा काफी चर्चित बना हुआ है। इस मामले में तीन आरोपी हैं। पुलिस ने आरोपी पति वीरेन्द्र जाटव, वीरेन्द्र की भाभी मिथलेश को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। अब पीड़िता की ननद की गिरफ्तारी रह गई है। इस मामले में विवेचना अधिकारी ASI को सस्पेंड करने के बाद TI डबरा सिटी थाना विनायक शुक्ला को हटा दिया गया है। इस मामले में बुधवार रात को आरोपी पक्ष ने एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल किया था। जिसमें पीड़िता शशि जाटव कह रही है कि मेरा पति बहुत अच्छा है उसे छोड़ दो। 

मैंने खुद ही तेजाब पिया था। मेरा पति मेरी सेवा कर रहा है। इस वीडियो से मामले में यू-टर्न आ गया था। इस मामले में गुरुवार सुबह एक और वीडियो पीड़िता के मायके पक्ष ने जारी किया है। जिसमें पीड़िता ने पति के पक्ष में जारी वीडियो को फर्जी और धमकी देकर बनवाना बताया है। हुआ यह था कि जब पुलिस ने पीड़िता के पति का दिल्ली में अस्पताल से गिरफ्तार किया था तो वहां पीड़िता का जेठ सुरेन्द्र और उसकी पत्नी मौजूद थे। पुलिस तो वहां से चली आई। अकेली शशि को उन दोनों ने धमकाया। सुरेन्द्र ने शशि के भाई की हत्या करने की धमकी देकर पति के बचाव में वीडियो बनाया और बाद में केस को कमजोर करने के लिए उसे सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। गुरुवार को नए जारी वीडियो में पीड़िता ने पति के बचाव वाले वीडियो को झूठा बताया है। 

अपनी इस हालत के लिए पति और ससुराल पक्ष को जिम्मेदार ठहराया है। गुरुवार को शशि की हालत काफी बिगड़ गई है। उससे पहले उसने वीडियो जारी किया है। जिसमें उसने कहा है कि उसकी हालत खराब है। वह तड़प रही है और ससुराल वाले उसे छोड़कर भाग गए हैं। शशि के भाई योगेश ने बताया कि बहन की हालत बिगड़ रही है। जल्द किसी निजी अस्पताल में भर्ती नहीं किया गया तो हालत और बिगड़ सकती है।