प्रदेश में दौड़ा सियासी 'करंट'! 

5 अगस्त को बढ़े हुए बिजली बिल के खिलाफ मोर्चा खोलेगी कांग्रेस 

भोपाल। बढ़े हुए बिजली बिल के विरोध में कांग्रेस 5 अगस्त को प्रदेश के हर जिले में प्रदर्शन करेगी. कांग्रेस का आरोप है कि बिजली बिलों के नाम पर सरकार लूट रही है, उपभोक्ताओं को परेशान किया जा रहा है. वहीं पूर्व मंत्री प्रियव्रत सिंह और जीतू पटवारी ने बीजेपी सरकार में बिजली विभाग में चल रहे भ्रष्टाचार की जांच कराने की मांग की है. उनका कहना है कि कर्मचारियों द्वारा मनमाने ढंग से रीडिंग लेकर उपभोक्ताओं को परेशान किया जा रहा है। पूर्व मंत्री प्रियव्रत सिंह ने कहा बीजेपी शासनकाल में सौभाग्य योजना के तहत करोड़ों का भ्रष्टाचार हुआ है. 

मंडला, डिंडोरी, सीधी, सिंगरौली, झाबुआ, अलीराजपुर, भिंड और मुरैना में भ्रष्टाचार की शिकायतें प्राप्त हुईं थी. लेकिन केवल मंडला और डिंडोरी में जांच कर मामले को दबाया जा रहा है. मंडला, डिंडोरी और जबलपुर संभाग में 64 करोड़ से अधिक का भ्रष्टाचार हुआ है. सभी जिलों में जांच कराई जाए तो यह घोटाला सैकड़ों करोड़ रुपए का निकलेगा, इसलिए मामले की जांच होनी चाहिए। पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर पर ढोंग रचने का आरोप लगाया है. 

उन्होंने कहा कि ऊर्जा मंत्री केवल मीडिया में आने के लिए अलग-अलग तरह के हथकंडे अपनाते रहते हैं, वास्तव में उन्हें बिजली उपभोक्ताओं की कोई चिंता नहीं है. जीतू पटवारी ने मुख्यमंत्री के पूर्व में दिए गए बयान का हवाला दिया, और कहा कि सीएम ने कहा था कि 200 रुपए से अधिक बिजली बिल आने पर उपभोक्ता बिल जमा ना करें, अब सीएम को इस पर कायम रहना चाहिए। पूर्व मंत्री पटवारी ने कांग्रेस सरकार पर तबादला उद्योग चलाने के आरोप भी लगाए. उन्होंने कहा कि प्रदेश में वल्लभ भवन अब तबादलों की नगरी और दलालों का हब बन गया है. इसी के तहत 5 अगस्त को हर जिले में आंदोलन किया जाएगा।