250 रुपए का चालान भी भरा…

बगैर हेलमेट स्कूटी चलाने के बाद गलती का एहसास होने पर चालान भरने थाने पहुंचे उर्जा मंत्री

ग्वालियर। बिना हेलमेट के एक्टिवा चलाने पर विवादों में आए ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर को दूसरे दिन अपनी गलती का अहसास हो गया। शनिवार को वह हेलमेट पहनकर स्कूटर चलाते हुए ट्रैफिक थाने पहुंचे। यहां उन्होंने अपनी गलती स्वीकार करते हुए चालान बनाने के लिए कहा। ट्रैफिक DSP आरएन त्रिपाठी ने मोटर व्हीकल एक्ट के तहत 250 रुपए का चालान काटा। ऊर्जामंत्री ने कहा, वह प्रदेश सरकार में मंत्री हैं, उसके बाद भी गलती हो गई। इससे गलत संदेश जाता है। अब इसके प्रायश्चित के लिए वह रविवार को 1 घंटे चार शहर का नाका मुक्तिधाम में श्रमदान भी करेंगे। साथ ही, हाथ जोड़कर कहा कि युवा हेलमेट, मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन जरूर करें। ऊर्जामंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने अपने घर से लेकर स्टेशन तिराहा रेसकोर्स रोड तक एक्टिवा चलाई थी। 

इस दौरान वह बिना हेलमेट के दोपहिया वाहन चलाते हुए नजर आए। साथ ही दोपहिया वाहन पर सोशल डिस्टेंस का पालन भी नहीं किया गया। वह शहर में कई जगह घूमे। केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर से भी मुलाकात भी की। अनोखा अंदाज दिखाने वाले ऊर्जामंत्री इस बार हेलमेट न पहनकर फंस गए थे। शुक्रवार को दैनिक भास्कर ने इस खबर को प्रमुखता के साथ प्रस्तुत किया था। जिसके बाद भोपाल से लेकर कई फोन ऊर्जामंत्री तक पहुंचे। इस पर उन्हें गलती का अहसास भी हुआ। उन्होंने शनिवार को खुद प्रायश्चित करने का फैसला लिया। पहले वह स्कूटी पर सवार होकर ट्रैफिक थाने पहुंचे। 

इस बार उन्होंने हेलमेट पहनकर गाड़ी चलाई। ट्रैफिक थाना पहुंचकर उन्होंने वहां मौजूद DSP ट्रैफिक आरएन त्रिपाठी, DSP नरेशबाबू अन्नोटिया से कहा कि मैंने हेलमेट न पहनकर गाड़ी चलाने की गलती की है। इसलिए मेरा चालान कर जुर्माना करें। ट्रैफिक DSP ने ऊर्जा मंत्री का मोटर वीकल एक्ट के तहत 250 रुपए का जुर्माना किया। जुर्माना वसूलकर उनको चालान की रसीद दी गई। इसके बाद स्कूटी पर सवार होकर वह वापस अपने कार्यालय के लिए निकल गए। डीएसपी ट्रैफिक आरएन त्रिपाटी का कहना है कि ऊर्जामंत्री ने बिना हेलमेट गाड़ी चलाई थी। पुलिस CCTV फुटेज, फोटो के माध्यम से चालान करती है। उनकी खबर प्रकाशित हुई थी। जिसके बाद वह खुद ही थाने आ गए और मोटर वीकल एक्ट का चालान किया गया है।