प्रत्याशियों पर हमले…

बंगाल में तीसरे चरण के मतदान में कई जगह हुई हिंसा

कोलकाता। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए मंगलवार को तीसरे चरण के मतदान के बीच कुछ स्थानों पर छिटपुट हिंसा और उम्मीदवारों पर हमले की खबरें हैं। भारतीय जनता पार्टी के सांसद सौमित्र खान की अलग रह रही पत्नी और तृणमूल कांग्रेस उम्मीदवार सुजाता मंडल खान पर आरामबाग में भाजपा कार्यकर्ताओं ने कथित रूप से हमला किया। हालांकि, भगवा पार्टी ने इन आरोपों से इंकार किया है। कुछ तस्वीरों में यह दिख रहा है कि तृणमूल नेता का कुछ लोग पीछा कर रहे हैं, जिनके हाथों में लाठी और लोहे की छड़े हैं। इसके बाद सिर पर लाठी से प्रहार किया जाता है। इस घटना में उनके सुरक्षा अधिकारी भी घायल हुये हैं। तृणमूल कांग्रेस का दावा है कि भाजपा के ‘‘गुंडों’’ ने पार्टी के पोलिंग एजेंटों को मतदान केंद्र के अंदर नहीं जाने दिया और लोगों को मतदान करने से रोकने के लिये उन्हें धमका कर अव्यवस्था का माहौल पैदा किया जा रहा है। सूत्रों ने बताया कि इस घटना पर मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने जिला निर्वाचन अधिकारी से रिपोर्ट तलब की है। 

तृणमूल उम्मीदवार डा निर्मल माझी ने दावा किया कि भाजपा के समर्थकों ने उन्हें रोका और उनके वाहन में तोड़फोड़ की। माझी के अनुसार, तब वह उलुबेरिया (उत्तर) विधानसभा क्षेत्र के एक मतदान केंद्र में प्रवेश करने का प्रयास कर रहे थे। माझी को हेलमेट पहना कर पुलिस ने इलाके से निकाला। खानकुल में तृणमूल कांग्रेस उम्मीदवार नजमुल करीम को भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने कथित रूप से पीटा और उनके खिलाफ नारेबाजी की। बाद में केंद्रीय बलों ने उन्हें उस इलाके से निकाला। वहीं, फालटा सीट पर भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार के वाहन पर कथित रूप से हमला हुआ। विष्णुपुर विधानसभा क्षेत्र में एक व्यक्ति को एक महिला को मतदान करने जाने से रोकने के लिये धमकाते देखा गया। हालांकि, महिला पर इसका कोई दबाब नहीं हुआ। भारत निर्वाचन आयोग ने स्थानीय अधिकारियों से इस बारे में रिपोर्ट मांगी है और आरोपी व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया गया। प्रदेश के कैनिंग पूरबा विधानसभा क्षेत्र में एक मतदान केंद्र के बाहर देसी बम फेंकने की घटना में कम से कम एक व्यक्ति घायल हो गया। 

तृणमूल कांग्रेस उम्मीदवार शौकत मोल्लाह ने अब्बास सिद्दिकी की अगुवाई वाली भारतीय धर्मनिरपेक्ष मोर्चा (आईएसएफ) को इसके लिये जिम्मेदार ठहराया है। हालांकि, पार्टी ने इस आरोप को खारिज कर दिया है। तृणमूल कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुये तथा डायमंड हार्बर से भगवा पार्टी के उम्मीदवार दीपक हालदार ने आरोप लगाया कि उनकी पूर्व पार्टी मतदाताओं को मतदान केंद्रों पर नहीं आने दे रही है। प्रदेश की धनेखली सीट पर राज्य सरकार के मंत्री असीम पात्रा ने भाजपा समर्थकों पर लोगों को मतदान केंद्रों पर आने से रोकने का आरोप लगाया है जिसे भगवा पार्टी ने खारिज कर दिया है। इस बीच पुलिस ने बताया कि हुगली जिले में मतदान शुरू होने से पहले एक भाजपा समर्थक के परिवार के एक सदस्य की कथित रूप से हत्या कर दी गयी। निर्वाचन आयोग ने अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के तहत सभी विधानसभा क्षेत्रों में निषेधाज्ञा लागू की और उन्हें ‘संवेदनशील’ घोषित किया है।