एसडीएम प्रदर्शनकारियों से मिलने तक नही पहुंचे…

सेवड़ा में सीएम राइज स्कूल न खुलने पर पांच घण्टे चला धरना प्रदर्शन

सेवढा। सेवड़ा नगर में सीएम राइज स्कूल न खुलने का मामला शांत होने का नाम नही ले रहा बल्कि विरोध बढ़ता ही जा रहा है। वही तहसील कार्यालय में धरना प्रदर्शन कर रहे नगर के युवाओं के  पेशेंस में एसडीएम ने सुनवाई नही कर आग में घी डालने का काम किया ओर नगर के युवाओं ने एसडीएम के विरोध में ही मोर्चा खोल धरना स्थल पर नारेबाजी कर हटाने की मांग कर डाली। सेवढा नगर में सीएम राइज स्कूल न बनने के विरोध में नगर के युवा समाजसेवी एवं आमजन विरोध में सड़क पर मंगलवार को उतर आए हैं। सीएम राइज स्कूल को लेकर एक दिन पहले सोमवार को नगर में हस्ताक्षर अभियान चलाया गया और गांधी पुस्तकालय में एक बैठक भी आयोजित की गई थी। जिसमें मंगलवार को एसडीएम को ज्ञापन सौंपना था। 

जिसके चलते मंगलवार को चार सैकड़ा से अधिक समाजसेवी युवा और आमजन तहसील परिसर में इकट्ठा हो गये जैसे ही एसडीएम अनुराग निगवाल की गाड़ी आई तो युवाओं ने ज्ञापन सोंपना चाहा लेकिन एसडीएम बात किये बिना ही सीधे आपने कार्यालय में चले गए । उन्हें दोबारा से बुलाने का प्रयास किया गया जिससे उन्हें ज्ञापन सौंपा जा सके। लेकिन 15 मिनट बाद फिर से वह अपनी गाड़ी में तहसीलदार साहिर खान, नायब तहसीलदार के कल्पना सिंह, नरेंद्र यादव अन्यत्र जगह के लिए रवाना हो गए । गुस्साए युवा करीब 11 बजे से दोपहर 3 बजे तक तहसील परिसर में ही धरने पर बैठ रहे और एस डी एम के आने का इंतजार करते रहे। 

लेकिन एस डी एम समेत सभी अधिकारी रोको टोको अभियान बाजार में चलाते रहे। लेकिन तहसील नही आये प्रशासन के इस रवैये से नाराज लोगो ने एस डी एम निंगवाल को हटाने व मुर्दाबाद के जमकर नारे तहसील व उनके बंगले पर लगाये गए। युवाओ ने बाजार रखने के लिए एस डी एम के रीडर को एक सूचना पत्र भी दिया वंही तहसील परिसर से सदर बाजार तक दुकानदारो से बुधवार को बाजार बंद रखने का आवाहन भी किया। धरना प्रदर्शन करीब 5 घण्टे चला जिसमे एस डी एम के  खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। लगभग 5 घंटे चले इस धरना प्रदर्शन में नगर के युवा आमजन और कांग्रेस,बीजेपी के नेता भी शामिल रहे। 

ज्ञापन न लेने से नाराज छात्र संघ ने बाजार में घूम कर अपना विरोध प्रकट कराया और बुधवार को नगर के दुकानदार और व्यापारियों से बाजार को बंद करने कीअपील भी की है। पूर्व विधायक प्रदीप अग्रवाल ने भी मांग का समर्थन किया है। मोके पर कलेक्टर दतिया को फोन लगाया। कलेक्टर ने भी नही किया रिसीव - तहसील परिसर में चल रहे धरना प्रदर्शन में पूर्व विधायक प्रदीप अग्रवाल ने एस डी एक इस रवैये के बारे में अवगत कराने के लिए भी धरना स्थल से मोके पर कलेक्टर दतिया को फोन लगाय। लेकिन कलेक्टर दतिया ने भी फोन नही रिसीव नही किया। युवाओ के इस धरने में एस डी एम पूरे दिन तहसील कार्यालय से अनुपस्थित रहे।