प्रायवेट अस्पतालों के संचालकों की कलेक्टर ने ली बैठक…

प्रायवेट अस्पताल में 24 घण्टे मौजूद रहें प्रशासनिक अधिकारी : श्री सिंह

ग्वालियर। शहर के सरकारी अस्पतालों के साथ-साथ सभी 74 प्रायवेट अस्पतालों में 24 घण्टे जिला प्रशासन के अधिकारी मौजूद रहेंगे। अस्पतालवार अधिकारियों की ड्यूटी लगा दी गई है। ये अधिकारी अस्पतालों से बेड उपलब्धता की जानकारी लेंगे और कोरोना मरीजों को भर्ती कराने में मदद करेंगे। यह बात कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने प्रायवेट अस्पतालों के संचालकों एवं इंसीडेंट कमांडर की संयुक्त बैठक में कही। उन्होंने सभी प्रायवेट अस्पतालों के संचालकों से भी कहा कि वे भी अपने-अपने अस्पताल में समन्वय के लिए जिम्मेदार कर्मचारी को नियुक्त करें। शुक्रवार को यहां मोतीमहल स्थित स्मार्ट सिटी के कंट्रोल एवं कमांड सेंटर में आयोजित हुई बैठक में कलेक्टर श्री सिंह ने प्रायवेट अस्पतालों के संचालको से कहा कि वे अपने अस्पताल के बाहर इलाज की रेट लिस्ट का बड़ा पोस्टर प्रदर्शित कराएँ। 

साथ ही एक ऐसी हेल्प डेस्क  स्थापित करें, जहाँ मरीज का तब तक प्राथमिक इलाज हो सके जब तक उसके भर्ती होने की प्रक्रिया पूरी न हो जाए। ऐसी स्थिति कदापि न बने कि मरीज को अस्पताल के बाहर घण्टों इंतजार न करना पड़े। कलेक्टर श्री सिंह ने कहा प्रायवेट अस्पताल  कि मरीज को रेफर करने से पहले संबंधित अस्पताल से यह जानकारी अवश्य लें कि वहाँ बेड खाली है कि नहीं, ताकि मरीज को परेशानी न हो। उन्होंने अनावश्यक रेफर न किये जाने पर भी विशेष बल दिया। श्री सिंह ने कहा शहर के बड़े निजी अस्पताल मरोजों को भर्ती करने, इलाज के बाद स्टेप डाउन और डिस्चार्ज सिस्टम को निर्धारित प्रोटोकॉल के तहत मजबूत करें, जिससे जिले का कोई भी गंभीर मरीज इलाज से वंचित न रहे। 

कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने प्रायवेट अस्पतालों से यह भी कहा कि ऑक्सीजन का सर्वोत्कृष्ट प्रबंधन करें। ऑक्सीजन की कमी नहीं है, अस्पताल रिफिलिंग का बेहतर से बेहतर इंतजाम रखें, जिससे जरूरतमंद मरीज को तत्काल ऑक्सीजन मिल सके। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने प्रायवेट अस्पतालों के संचालकों से यह भी कहा कि वेंटीलेटर और रेमिडेसिविर इंजेक्शन को लेकर पैनिक न फैलने दें। अस्पताल से संपर्क करने वाले मरीजों की काउंसलिंग करें कि हर मरीज को वेंटीलेटर की जरूरत नहीं होती। जरूरत पड़ने पर वेंटीलेटर उपलब्ध कराया जाएगा। शहर के अस्पतालों में पर्याप्त वेंटीलेटर की व्यवस्था है। बैठक में नगर निगम आयुक्त शिवम वर्मा, स्मार्ट सिटी की सीईओ जयति सिंह व अपर कलेक्टर टी एन सिंह सहित अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे।