जलाभिषेक अभियान के तहत श्री सक्सेना ने दिए निर्देश…

ग्वालियर-चंबल संभाग में जल संरक्षण के कार्य हाथ में लिए जायें : संभागायुक्त

ग्वालियर। कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिये प्रदेश भर में चलाए जा रहे 7 दिवसीय जन जागरूकता अभियान में ग्वालियर-चंबल संभाग के सभी जिला मुख्यालयों, ब्लॉक मुख्यालयों व पंचायत स्तर तक अधिकारी – कर्मचारी प्रात: 11 बजे और शाम 7 बजे सायरन बजने के साथ ही सार्वजनिक स्थलों पर उपस्थित होकर जन जागृति का कार्य करेंगे। अधिकारीगण बिना मास्क के घूम रहे लोगों को मास्क प्रदान करने के साथ-साथ कोविड संक्रमण की रोकथाम के लिये समझाइश भी देंगे। संभागीय आयुक्त आशीष सक्सेना ने संभाग स्तरीय अंतरविभागीय समन्वय समिति की बैठक में यह निर्देश दिए हैं। 

गूगल मीट से आयोजित इस बैठक में कोविड गाइडलाइन के साथ-साथ जलाभिषेक अभियान, समर्थन मूल्य पर खरीदी, नवीन खाद्यान्न पर्ची का वितरण, पोषण आहार, कुपोषण निवारण के लिये चलाए जा रहे अभियान के साथ-साथ जन कल्याण की योजनाओं की समीक्षा की गई और आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए। संभागीय आयुक्त श्री सक्सेना ने समीक्षा के दौरान कहा है कि कोविड-19 के संक्रमण की रोकथाम के लिये मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के आह्वान पर सम्पूर्ण प्रदेश में जन जागृति का अभियान चलाया जा रहा है। ग्वालियर-चंबल संभाग में भी इस अभियान को प्रभावी रूप से क्रियान्वित किया जाना है। 

सभी संभागीय अधिकारी, जिला अधिकारी और ब्लॉक स्तर के अधिकारी प्रतिदिन प्रात: 11 बजे और शाम 7 बजे सायरन बजने के साथ ही जन जागृति के कार्य हेतु शहर के विभिन्न सार्वजनिक स्थलों पर पहुँचें और लोगों को नि:शुल्क मास्क वितरण भी करें। इसके साथ ही संक्रमण की रोकथाम के लिये आम जनों को जागरूक करने का कार्य करें। जन जागरण के इस अभियान में विभागीय अधिकारी मास्क वितरण और जागरूकता का कार्य करें। इसके साथ दोनों संभाग के सभी थाना प्रभारी अपने-अपने क्षेत्र में बिना मास्क के घूम रहे लोगों पर चालान कर उन्हें मास्क वितरित करें। कोरोना संक्रमण के लिये जागरूकता के साथ-साथ कार्रवाई भी की जाना आवश्यक है। जिन लोगों के पास चालान के पैसे न हों उन्हें कुछ समय के लिये खुली जेल में रखने की व्यवस्था भी की जाए।

मास्क वितरण का कार्य पूरी तरह से विभागीय अधिकारी जन सहयोग के माध्यम से कराएँ। संभाग स्तरीय अधिकारी प्रतिदिन 100, जिला स्तरीय अधिकारी प्रतिदिन 50, ब्लॉक एवं ग्राम स्तरीय अधिकारी अपने स्तर से कम से कम 25 मास्कों का वितरण प्रतिदिन करें। संभागीय आयुक्त आशीष सक्सेना ने बैठक में यह भी कहा कि केन्द्रीय कार्यालय एवं विभिन्न विश्वविद्यालयों से भी जन जागृति के कार्य में सहयोग लिया जाए। इसके लिये जिला प्रशासन पहल कर जन जागृति के कार्य में सहभागिता कराए। संभागीय आयुक्त आशीष सक्सेना ने कहा कि जल संरक्षण और जल संवर्धन के लिये ग्वालियर-चंबल संभाग में जलाभिषेक अभियान के तहत कार्य हाथ में लिए जाएँ। इसके लिये दोनों संभाग में पुराने तालाबों के गहरीकरण का कार्य हाथ में लिया जाए। 

इस कार्य में जल संसाधन विभाग दोनों संभागों में तालाबों को चिन्हित करे। इसके साथ ही जिला पंचायत पूरे अभियान में अग्रणी भूमिका का निर्वहन करे। उन्होंने कृषि विभाग के अधिकारियों को भी निर्देशित किया है कि तालाब गहरीकरण से जो मिट्टी निकलेगी उसे किसानों को उपलब्ध कराने का कार्य समन्वय के साथ करें। महिला एवं बाल विकास विभाग की समीक्षा के दौरान संभागीय आयुक्त श्री सक्सेना ने निर्देश दिए हैं कि ग्वालियर-चंबल संभाग में कुपोषण निवारण की दिशा में प्रभावी कार्रवाई की जाए। इसके साथ ही पोषण आहार का वितरण भी गुणवत्ता के साथ समय पर हो यह सुनिश्चित किया जाए।

संयुक्त संचालक महिला एवं बाल विकास विभाग सीमा शर्मा ने बताया कि कुपोषण निवारण में 57 प्रतिशत उपलब्धि विभाग को मिली है। वर्तमान में 8 हजार 25 बच्चे कुपोषण की श्रेणी में चिन्हित थे। जिनमें से 4 हजार 300 से अधिक बच्चों को कुपोषण की श्रेणी से बाहर लाने का कार्य किया गया है। कुपोषण निवारण के लिये विभाग तत्परता से कार्य कर रहा है। प्रदेश में चना, मसूर और सरसों का उपार्जन 27 मार्च से किया जा रहा है। ग्वालियर चंबल संभाग के सभी जिलों में किसानों से उपार्जन पर चना, मसूर और सरसों खरीदने की सभी व्यवस्थायें समय रहते पूर्ण कर ली जाएँ। संभागीय आयुक्त आशीष सक्सेना ने निर्देशित किया है कि खरीदी केन्द्रों पर किसानों को किसी प्रकार की समस्या न आए, यह सुनिश्चित किया जाए। 

उपार्जन केन्द्रों पर आवश्यक दिशा-निर्देशों के बोर्ड भी लगाए जाएँ। उपार्जन केन्द्र पर किसानों की सुविधा के लिये छाया, पानी की व्यवस्था हो। इसके साथ ही बारदाना एवं तौल कांटे की व्यवस्था सभी केन्द्रों पर सुनिश्चित की जाए। खाद्य विभाग की समीक्षा के दौरान संभागीय आयुक्त आशीष सक्सेना ने निर्देश दिए हैं कि ग्वालियर-चंबल संभाग के सभी जिलों में नवीन पात्रता पर्ची का वितरण लक्ष्य के अनुरूप हो। सभी उपभोक्ताओं को समय पर खाद्यान्न की उपलब्धता भी सुनिश्चित की जाए। जिन जिलों में खाद्यान्न पर्ची के वितरण में लक्ष्य अनुरूप कार्य नहीं किया गया है वहाँ अभियान चलाकर कार्रवाई की जाए। 

संभागीय आयुक्त आशीष सक्सेना ने संभाग स्तरीय अंतरविभागीय समन्वय समिति की बैठक में बिना पूर्व सूचना के बैठक में अनुपस्थित रहने पर गंभीर आपत्ति दर्ज की है। उन्होंने 7 विभागीय अधिकारियों को गूगल मीट में शामिल न होने पर कारण बताओ सूचना पत्र जारी किए हैं। आयुक्त श्री सक्सेना ने बैठक में यह भी स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि कोई भी विभागीय अधिकारी समीक्षा बैठक में बिना पूर्व सूचना के अनुपस्थित न हो। बैठक में अनुपस्थित होना अनुशासनहीनता की श्रेणी में आता है। ऐसे विभागीय अधिकारियों के विरूद्ध कार्रवाई की जायेगी।