फरीदाबाद में चर्चित हत्याकांड…

निकिता हत्या के आरोपी तौशीफ और रेहान को मिली उम्रकैद की सजा

फरीदाबाद में चर्चित निकिता तोमर हत्याकांड में गुरूवार को सजा देने पर दोनों पक्षों की बहस शुरू पूरी होने के बाद शुक्रवार को सजा दी गई। अदालत ने दोनों दोषियों को उम्र कैद की सजा दी है। इसके साथ ही 20 हजार रुपये का फाइन भी किया गया है। इससे पहले बुधवार को कोर्ट ने तौशीफ़ और रेहान दोषी क़रार दिया था। वहीं इस मामले में अजरू को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया गया था। यह मामला अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश सरताज बासवाना की फास्ट ट्रैक कोर्ट में चल रहा है। तौशीफ की तरफ से एडवोकेट पीएल गोयल ने अपना पक्ष रखा। 

आरोपितों की उम्र कम होने, उनके ख़िलाफ़ पुराना कोई मामला ना होने और उनके स्टूडेंट होने के आधार पर फाँसी की सज़ा ना करने का निवेदन किया। अदालत ने फ़ैसला सुरक्षित रखा। दोपहर बाद चार बजे सजा सुनाई गई। निकिता तोमर पक्ष के अधिवक्ता ऐदल सिंह ने बताया कि इस मामले में कुल 57 गवाहों की गवाही हो चुकी है। बचाव पक्ष की ओर से वकील अनवर खान, अनीस खान, पीएल गोयल ने आरोपितों के बचाव में विभिन्न पक्ष रखे। 26 मार्च को इस मामले को पूरे पांच माह हो जाएंगे। 

हत्याकांड के 11 दिन बाद पुलिस ने अदालत में चार्जशीट दायर कर दी थी।बीकॉम ऑनर्स की छात्रा निकिता की 26 अक्टूबर-2020 को अग्रवाल कॉलेज के सामने गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। हत्या की साजिश का आरोप सोहना निवासी तौशीफ, नूंह निवासी रेहान और अजरू पर है। तीनों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। इस घटना के बाद काफी हंगामा हुआ था। यह मामला फास्ट ट्रैक अदालत में चलाने की मांग उठी थी, जिसे सरकार ने स्वीकार कर लिया था। 

जांच के दौरान फरीदाबाद पुलिस क्राइम ब्रांच को आरोपित से पूछताछ में पता चला है कि हाल में रिलीज हुई मिर्जापुर-2 वेबसीरीज देखकर वह बेहद प्रभावित हुआ। इस वेबसीरीज का खलनायक मुन्ना अपनी प्रेमिका की गोली मारकर हत्या कर देता है। आरोपित ने बताया है कि निकिता को लेकर उसकी समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करे। यह वेबसीरीज देखने के बाद उसने ठान लिया कि अब या तो निकिता उसके साथ रहेगी या वह उसकी हत्या कर देगा। इसके बाद ही उसने वारदात को अंजाम दिया।