रायसेन के लिए निकले फौजी से ठगे 1.98 लाख रुपए…

ट्रेनों में फौजी बनकर सेना के जवानों से करता था ठगी

ग्वालियर। ट्रेनों में फौजी बनकर फौजियों से दोस्ती करता था और फिर उनका सामान चुरा लेता या फिर ठगी करता था। ऐसे ही शातिर बदमाश को GRP ग्वालियर तिहाड़ जेल से लेकर आई है। इससे कुछ महीने पहले दिल्ली से रायसेन के लिए निकले फौजी से ठगे गए 1.98 लाख रुपए कैश और गहने बरामद उसके ठिकाने से बरामद हुए हैं। GRP TI अजीत सिंह का कहना है कि आरोपी इतना शातिर है कि बातों ही बातों में दोस्ती कर विश्वास जीत लेता है। इसके बाद वारदात को अंजाम देता है। उस पर देश के कई शहरों में 26 से अधिक अपराधिक मामले दर्ज हैं। 

अन्य चोरियों और ठगी के संबंध में उससे पूछताछ की जा रही है। जीआरपी ब्रॉड गेज थाना निरीक्षक अजीत सिंह चौहान ने बताया कि सितंबर 2020 में दिल्ली से रायसेन के लिए आ रहे सेना के जवान अभिषेक गौड़ से दिल्ली स्टेशन पर बदमाश सुनील दुबे निवासी मिर्जापुर यूपी ने मुलाकात की थी। अभिषेक 336 रेजीमेंट नौसेरा जम्मू में पदस्थ थे। सुनील ने खुद को फौजी बताकर दोस्ती कर ली। अभिषेक की ट्रेन लेट होने पर बदमाश ने उसे स्टेशन के बाहर एक बीयर बार में ले गया। 

जब भुगतान का समय आया तो सुनील ने एटीएम कार्ड में कुछ गड़बड़ होने की बात कही। इस पर अभिषेक ने अपना कार्ड लगाकर भुगतान कर दिया। उसी समय आरोपी ने उसका पिन नंबर देख लिया। इसके बाद वापस स्टेशन पहुंचे और सफर पर रवाना हो गया। सफर के दौरान फौजी को गहरी नींद में सोता देख उसका पर्स लेकर गायब हो गया था। फौजी ने इस मामले की एफआईआर ग्वालियर में दर्ज कराई थी। पर्स में 2 हजार और एटीएम कार्ड था। बाद में एटीएम कार्ड से 1.98 लाख रुपए निकाले गए थे।

TI अजीत सिंह चौहान ने बताया कि जहां-जहां से आरोपी ने एटीएम का उपयोग कर पैसा निकाला था वहां-वहां जाकर हमने फुटेज निकाले। फुटेज वाले आरोपी की पहचान सुनील दुबे के रूप में हुई। इसके बाद अभी पता लगा कि एक ऑटो वाले की मदद से दिल्ली पुलिस ने हाल ही में सुनील को पकड़ा है। इस पर दिल्ली पुलिस की मदद से बदमाश सुनील को बीते रोज दिल्ली की तिहाड़ जेल से प्रोटेक्शन वारंट पर लेकर GRP पुलिस ग्वालियर लाई है।