कई अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस देने के निर्देश…

विभागीय अधिकारी निर्देश न दें धरातल पर काम दिखायें : कलेक्टर

मुरैना। विभागीय अधिकारियों का दायित्व है कि वे धरातल पर योजनाओं को मूर्त रूप दे अधिकारियों का निर्देश देना, आदेश देना, लेटर जारी करना काफी नहीं ये सारे कार्य तो भोपाल स्तर से किये जाते हैं अधिकारियों का तो सिर्फ और सिर्फ धरातल पर काम कराने की जिम्मेदारी होती है जिसे जनता को सीधा लाभ पहुंचे। ये निर्देश कलेक्टर बी कार्तिकेयन ने सोमवार को नवीन कलेक्ट्रेट सभाकक्ष मुरैना में टीएल बैठक के दौरान समस्त जिलाधिकारियों को दिये। कई अधिकारियों द्वारा योजना की प्रगति लक्ष्य के अनुरूप नहीं होने पर उन्हें कारण बताओ नोटिस तथा वेतन काटने के भी निर्देश दिये। 

कलेक्टर बी कार्तिकेयन ने कहा कि जिले में सरसोें एवं गेंहू खरीदी का कार्य इस माह से प्रारंभ होगा इसके लिये समस्त एसडीएम एवं खरीदी विभाग से संबंधित अधिकारी कार्ययोजना बनायें और जिले में कितने सेंटर सरसों के लिये बनाये जाने हैं इस कार्य को प्राथमिकता से करें। बैठक से जिला स्टेट वेयरहाउस के श्री अग्रवाल अनुपस्थित रहे। कलेक्टर ने श्री अग्रवाल का एक दिवस का वेतन काटने का नोटिस जारी करने के निर्देश दिये। कलेक्टर ने कहा कि जिले में 15 मार्च से सरसों की खरीदी और 1 अप्रेल से गेंहू की खरीदी का कार्य प्रारंभ होगा इसके लिये आवश्यक केंद्रवार तैयारियंा अभी से कर ली जायें। इन सेंटरों पर क्या आवश्यकता रहेगी और किस सेंटर पर कितने किसान पंजीकृत हैं उन सबका बारदाना आदि का प्रबंध पहले से करा लिया जाये। 

उन्होंने कहा कि  एसडीएम प्लानिंग के साथ नान, सीसीव्ही, डीएसओ, मार्फेट के साथ बैठक कर यह जानकारी 2 दिवस में तैयार कर ली जाये। कलेक्टर ने पीएम स्वनिधि योजना की समीक्षा की जिसमें उन्होंने निर्देश दिये कि नगरीय निकायों में बहुत अच्छा कार्य किया गया है। किन्हीं कारणवश सीएमओ का वेतन रोका गया है। उन सभी सीएमओ के वेतन जिला कोषालय अधिकारी जारी करें। कलेक्टर ने नवीन पात्रता खाद्यान्न की समीक्षा की जिसमें खाद्यान्न सामग्री की प्रगति इस सप्ताह ठीक पोर्टल पर दिखाई गई है। 

कलेक्टर ने वर्ष 2019 की गौशालाओं की समीक्षा की जिसमें 30 गौशालाओं में से 28 गौशालाओं का निर्माण पूर्ण होना बताया। शेष दो गौशालायें प्रगतिरत बताई गई हैं। कलेक्टर बी कार्तिकेयन ने जलजीवन मिशन के तहत योजनाओं की समीक्षा की जिसमें वर्ष 2022 तक घर घर नल घर घर जल का कार्य पूर्ण होना है इस पर पीएचई विभाग के अधिकारी ने 85 योजनाओं को प्रगतिरत बताया। बैठक में जिला रोजगार अधिकारी अनुपस्थित पाई गईं। इस पर कलेक्टर ने नाराजगी व्यक्त की और प्रति 26 तारीख को रोजगार मेला लगाने के निर्देश दिये। पिछले माह 1764 लोगों का चयन किया गया जिसमें 818 लोगों को जाॅब प्रदान किया। कलेक्टर ने कृषि विभाग की टाॅप 25 योजनाओं की समीक्षा की जिसमें प्रगति ं अच्छी नहीं होने पर उपसंचालक कृषि को कारण बताओ नोटिस देने के निर्देश दिये।