समीक्षा बैठक में सभी अधिकारियों को दिये निर्देश…

किसी भी शिकायत की पांच दिन से ज्यादा पेंडेंसी बर्दाष्त नहीं : निगमायुक्त

ग्वालियर। जनसुनवाई, सीएम हेल्प लाइन एवं कंट्रोल रूम पर आने वाली शिकायतें के लंबित प्रकरणों को समय सीमा में निदान करें। किसी भी प्रकरण की 5 दिन से ज्यादा की पेंडेंसी नही होनी चाहिए। वहीं स्वच्छता सर्वेक्षण की टीम कभी भी शहर में आ सकती इसलिए साफ सफाई व सार्वजनिक शौचालयों पर पानी की पर्याप्त व्यवस्था हो। उक्ताश्य के निर्देश नगर निगम आयुक्त शिवम वर्मा ने समय समीक्षा बैठक में सभी अधिकारियों को दिये। प्रशासनिक भवन में आयोजित बैठक में निगमायुक्त शिवम वर्मा ने प्राप्त आवेदनों की समीक्षा करते हुए कहा कि पीएम स्वनिधि पथविक्रेता योजना में कितने लाभांवित हो चुके हैं तथा कितनों के प्रतिदिन मामले हम बंैक को भेज रहे हैं। 

इस पर संबंधित अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि अभी तक 11603 हितग्राहियों को इस योजना का लाभ मिल चुका है। इसके साथ ही लगभग 1500 नये फार्म बैंक को भेज दिये हैं। साथ ही स्वसहायता समूहों को दिये जाने वाले लोन की जानकारी ली। इसके साथ ही जोन नम्बर 9 के एक हितग्राही को अंत्योष्टि अनुग्रह राशि न दिये जाने पर निगमायुक्त ने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि यह हमारी जिम्मेदारी है जिस घर में मृत्यु हुई है, उसे समय पर अंत्योष्टि राशि दी जाये, उसे कार्यालय के चक्कर न लगाने पडे। 

साथ ही सभी क्षेत्राधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि मुक्तिधामों में सभी सुविधायें हो, बैठने, पीने का पानी और छाया की पर्याप्त व्यवस्था हो साथ ही मुक्तिधाम आने वाले रास्ता दुरूस्त होना चाहिए। उन्होने कहा कि शहर के सभी बडे पार्कों का मेंटीनेंश का कार्य शीघ्र चालू किया जाये, इसके साथ ही सडक के बीच में बने डिवाइडरों पर वृक्षारोपण का कार्य किया जाये। उन्हांेने कहा कि अवैध काॅलोनियांे पर प्रतिदिन कार्यवाही की जाये एक भी नई अवैध काॅलोनी नही बसनी चाहिए, इसके लिए संबंधित पटवारी के साथ क्षेत्र का निरीक्षण कर कार्यवाही करें। साथ ही कहा कि सीएम हेल्पलाइन पर आने वाली शिकायतों का निराकरण लेवल एक पर ही होना चाहिए। 

अगर सीएम हेल्प लाइन में 3 दिन में प्रोग्रेस नही आती है तो संबंधित के खिलाफ कार्यवाही की जायेगी। स्वच्छता की मोनिटरिंग के कार्य में लगे अधिकारी जरा भी लापरवाही न बरतें, अन्यथा उनके खिलाफ कठोर कार्यवाही की जायेगी। स्वच्छता की टीम आने वाली है, इसलिए स्वच्छता के कार्य मंें किसी भी प्रकार की लापरवाही न करें। बैठक में बिना सूचना के अनुपस्थित रहने पर उपायुक्त डाॅ. अतिबल सिंह यादव को नोटिस जारी करने के निर्देश दिये। इसके साथ ही लंबित प्रकरणों की जानकारी समय सीमा में न देने पर भंडार अधीक्षक सुभाष गुप्ता का 3 दिवस का वेतन काटने के निर्देश दिये।