जिला प्रशासन ने शनि मेला के लिये किये पुख्ता इंतजाम…

समस्त जिलाधिकारी मेला अवधि तक उपस्थित रहें : कलेक्टर

मुरैना। 13 मार्च को शनिश्चरी अमावस्या को ध्यान में रखते हुये जिला प्रशासन ने श्रद्धालुओं को सुगमता से दर्शन कराने के लिये पुख्ता प्रबंध किये है। जिसमें सभी विभागों को जो जिम्मेदारियां सौंपी गई थी, उन जिम्मेदारियां का सभी विभागों ने कार्य पूर्ण कर लिया गया है। यह बात कलेक्टर बी कार्तिकेयन एवं पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार पाण्डेय ने गुरूवार को ग्राम ऐंती पर्वत के सभागार में कही। इस अवसर पर उन्होंने अधिकारियों को यह भी निर्देश दिये कि शनि मेला समाप्ति तक सभी एचओडी अपने अधीनस्थों के साथ शनि मेले में उपस्थित रहेंगे। किसी भी प्रकार की कहीं कोई लापरवाही होती है तो अधीनस्थों को लेकर उस समस्या का त्वरित गति से निराकरण करेंगे। 

समीक्षा बैठक में फोरेस्ट विभाग के एसडीओ अनुपस्थित पाये गये, जिससे वन विभाग को सौंपे गये दायित्वों की समीक्षा नहीं हो सकी। इस पर कलेक्टर ने एसडीओ वन को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिये। कलेक्टर श्री कार्तिकेयन ने प्रत्येक विभाग को सौंपे गये दायित्वों का बिन्दुवार गहन ध्यन किया और जिलाधिकारी द्वारा पूर्ण किये गये दायित्वों का उन्होंने मौके पर मुआयना भी किया। उन्होंने कहा कि गर्भगृह के बाहर मेटी लगाई जाये, जिससे तेल आदि फेलने से फिसलन की आशंका न रहे। उन्होेंने कहा कि रेल्वे स्टेशन से शनि मंदिर तक प्रकाश और पेयजल के टेंकर मेला प्रारंभ होने से पहले ही लगा दिये जायें। पार्किंग में बैनर, प्रकाश, टेंट और पीए सिस्टम लगा दिये जायें, जिससे पुलिस जवानों को कार्य को सहुलता रहे। 

पीएचई विभाग गर्मी को ध्यान मेें रखते हुये पेयजल के पुख्ता प्रबंध करें। स्वास्थ्य विभाग 4 स्थानों पर अस्थाई रूप से अस्पताल स्थापित करें और मेय डाॅक्टर एवं एंबूलेंस तथा स्टाफ नर्स के साथ सीएमएचओ उपस्थित रहें। उन्होंने कहा कि आंगनवाड़ी सुपरवाइजरों को 8-8 घंटे के मान से शनि मंदिर के गर्भगृह के बाहर ड्यूटी लगाई जायें, जो क्रमबद्ध तरीके से महिलाओं को दर्शन करा सकें। कलेक्टर ने स्पष्ट रूप से निर्देश दिये कि शनि मेला में गलती पाई गई तो क्षम्य नहीं होगी। कार्रवाही सीधे जिला अधिकारी पर होगी। पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार पाण्डेय ने कहा है कि सुरक्षा के कड़े प्रबंध रहें। 

इसलिये प्रत्येक चैक पाॅइंट, पार्किंग, झिक-झिक, गर्भगृह आदि स्थानों पर पर्याप्त पुलिस बल लगाने के निर्देश अधीनस्थों को दिये। उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा है कि पुलिस में महिला कर्मियों को भी लगायें। मेले में किसी भी प्रकार की गलती नहीं होनी चाहिये। शनि मंदिर पर व्हीआईपी दर्शन की व्यवस्था जिला प्रशासन ने की है, लोग भीड़-भाड़ से बचें। इसके लिये व्हीआईपी पास 550 रूपये का मिलेगा। इसके लिये तीन स्थान चिन्हित किये है। व्हीआईपी पास के प्रभारी जिला शिक्षाधिकारी सुभाष शर्मा, डीपीसी मुन्ना सिंह तोमर रहेंगे। व्हीआईपी शनि मंदिर के मुख्य गेट पर, रांसू तिराहा और शनि मंदिर के व्हीआईपी गेट पर शिक्षा विभाग द्वारा यह व्यवस्था रखी है। जो व्यक्ति भीड़ से बचने के लिये व्हीआईपी पास क्रय करके दर्शन कर सकते है।