मास्क न पहनने पर…

पुलिस ने एक दिन में 1472 लोगों से वसूले 1.47 लाख रुपए

ग्वालियर। पुलिस ने एक दिन में सर्वाधिक चालान कर जुर्माना वसूलने का रिकॉर्ड बनाया है। पुलिस ने बिना मास्क के सड़कों पर निकलने वाले 1472 लोगों का शनिवार काे चालान कर 1.47 लाख रुपए जुर्माना वसूला है। कोरोना संक्रमण फैलने के बाद से अब तक मध्य प्रदेश के किसी भी जिले में एक दिन में इतनी संख्या में चालान नहीं किए गए हैं। पुलिस ने तो मास्क नहीं पहनने वालों पर चालान कर रिकॉर्ड बना लिया, लेकिन इस कार्रवाई से साफ हो गया है कि लोग मास्क को लेकर जरा भी जागरूक नहीं है। शहर में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए सबसे अच्छा उपाय मास्क और सोशल डिस्टेंस का पालन है, लेकिन शहर के लोग समझने को तैयार ही नहीं है। ऐसे लोग जो मास्क नहीं पहन रहे हैं उनको सबक सिखाने के लिए शनिवार सुबह 9 बजे से जिले में थाना पुलिस और यातायात पुलिस ने एक साथ अभियान शुरू किया। 

खुद SP ग्वालियर अमित सांघी के निर्देश थे कि किसी को भी नहीं छोड़ा जाए। इसके बाद बिना मास्क के निकलने वालों को पुलिस ने जुर्माना वसूलकर सबक सिखाया है। दिन भर में 1472 लोगों के चालान किए गए हैं। प्रत्येक से 100-100 रुपए बतौर जुर्माना वसूला गया है। रात तक पुलिस के खाते में कुल जुर्माना की राशि 1 लाख 47 हजार 296 रुपए जमा हुई थी। जो अभी तक के पूरे प्रदेश के रिकॉर्ड में एक दिन में सबसे बड़ी कार्रवाई है। बिना मास्क पकड़े गए लोगों ने जुर्माना भरने से पहले बचने के लिए कई हथकंडे इस्तेमाल किए हैं। किसी का मास्क गलती से घर पर रह गया था तो किसी ने धो कर छत पर सूखने के लिए डाला था। कुछ लोगों ने अपने-अपने नेताजी को भी फोन घुमा दिया, लेकिन एक भी बहाना पुलिस के जुर्माना से नहीं बचा सका। 

एक दिन पहले कई थाना पुलिस द्वारा चालान की कोई भी कार्रवाई न करने पर IG ग्वालियर जोन अविनाश शर्मा ने नाराजगी जाहिर करते हुए कई थाना प्रभारियों को निंदा की सजा के साथ ही कड़ी चेतावनी दी थी। इसके बाद शनिवार को थाना प्रभारी सहित अन्य अफसर मैदान में उतरे और करीब डेढ़ हजार चालान किए। कार्रवाई के लिए पुलिस कप्तान ने तीन वर्ग बनाए, जिसमें शहर, देहात और यातायात पुलिस। सभी को तीन भागों में बांटा, जिसमें सबसे ज्यादा चालान शहर के थानों ने 954, देहात ने 169 और यातायात पुलिस ने 349 चालान किए। SP ग्वालियर अमित सांघी ने बताया कि कोरोना संक्रमण रोकने के लिए यह जुर्माना जरूरी है। जुर्माना वसूलने के बाद सभी को मास्क भी दिए गए। इससे वह अगली बार मास्क पहनकर ही निकलेंगे।