गुर्जर समाज के बाद सर्व समाज के लिए छेड़ा अभियान...

संत हरिगिरी महाराज की शराबबंदी पदयात्रा में उमड़ा लोगों का हुजूम

ग्वालियर।मुरैना में जहरीली शराब से दो दर्जन से ज्यादा लोगों की मौत से आहत संत हरिगिरी महाराज ने शराबबंदी करने पदयात्रा शुरू की है। 6 दिन की यह पदयात्रा मंगलवार को सिरोल के हनुमान टेकरी से शुरू हुई। पदयात्रा में हरिगिरी महाराज के साथ ही लालगिरी महाराज, बालकदास महाराज और उनके सैकड़ों भक्त पदयात्रा में शामिल हुए है। इस दौरान पदयात्रा जिन क्षेत्रों से होकर गुजर रही है हरिगिरि महाराज द्वारा लोगों से शराब छोड़ने की अपील की जा रही है। प्रदेश में एक बार फिर शराबबंदी की आवाज उठी है। 

इस बार यह आवाज किसी नेता या राजनीतिक दल ने नहीं, बल्कि गुर्जर समाज के संत हरिगिरी महाराज ने यह बात फिर से उठाई है। वह गुर्जर समाज में लगातार शराबबंदी, दहेज प्रथा, शादियों में विलासिता जैसी बुराइयों को बंद कराने के लिए प्रयास करते रहे हैं। इस बार संत हरिगिरी महाराज, संत लालगिरी महाराज, संत बालकदास महाराज ने सर्व समाज में शराबबंदी करने का निर्णय लिया है। इसके लिए वह पूरे अंचल में पदयात्रा करेंगे। 

पहले चरण में 22 फरवरी को ग्वालियर के सातऊं गांव शीतला मंदिर से अपने सैकडों भक्तों के साथ हरिगिरी महाराज ने 6 दिवसीय पदयात्रा का शुभारंभ किया है। मंगलवार को सिरोल में हनुमान टेकरी मंदिर से यह पदयात्रा फिर से शुरू हुई इसके बाद यात्रा मुरार, दीनदयाल नगर, भिंड रोड गिरगांव, लक्ष्मणगढ़ होते हुए बायपास के गांव में संपर्क करते हुए बानमोर, नूराबाद से मुरैना पहुंचेगी। इस दौरान रास्ते में जगह-जगह लोगों को शराब छोडने की शपथ भी दिलाई जा रही है।