मेले में वाहनों के पंजीयन पर मिलेगी छूट...

15 फरवरी से शुरू होगा ग्वालियर का ऐतिहासिक व्यापार मेला

ग्वालियर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि ग्वालियर का ऐतिहासिक एवं प्राचीन मेला जो 105 वर्षों से संचालित हो रहा है। यह 15 फरवरी 2021 से विधिवत प्रारंभ होगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान रविवार को ग्वालियर व्यापार मेला प्राधिकरण द्वारा आयोजित मेला प्रांगण में कला रंगमंच में उदघोषणा कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने श्रीमंत माधवराव सिंधिया ग्वालियर व्यापार मेला के उदघोषणा कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि मेले का विधिवत शुभारंभ 15 फरवरी से किया जायेगा। इस मेले में खरीदे गए वाहनों के पंजीयन पर छूट मिलेगी। श्री चौहान ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि ग्वालियर का व्यापार मेला सन् 1905 से अद्भुत पहचान लिए हुए है। इस मेले की शुरूआत कैलाशवासी माधवराव सिंधिया प्रथम ने की थी। मेले की आगे भी और पहचान बढ़े, इसके लिये सभी के सहयोग से विचार-विमर्श कर भव्यता प्रदान की जायेगी। 

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत, आत्मनिर्भर म.प्र. के साथ आत्मनिर्भर ग्वालियर के रूप में कार्य किया जायेगा। जिससे विकास के मामले में ग्वालियर आगे रह सके। उन्होंने कहा कि ग्वालियर में उद्योग एवं व्यापार को लगातार बढ़ाने के लिये मेला प्रांगण का उपयोग किया जा सके, इसके लिये योजना बनाने के जिला प्रशासन को निर्देश दिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोरोना से निजात हेतु जो कदम उठाए और लोगों द्वारा सावधनियां बरतने के कारण कोरोना नियंत्रण में है। वैक्सीन के मामले में भारत ने दुनिया में एक नए रिकॉर्ड स्थापित किए हैं। केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि इतिहास साक्षी है कि समाज में मेलों की कल्पना एवं विस्तार की जब बात हुई होगी। 

सबसे पहले ग्वालियर के प्राचीन एवं ऐतिहासिक मेले का नाम लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि ग्वालियर का ऐतिहासिक एवं प्राचीन मेला अपने नियत समय पर आयोजित होता था। लेकिन विश्ववयपी महामारी कोविड-19 के कारण इस वर्ष मेले के आयोजन में विलंब हुआ है। उन्होंने कहा कि ग्वालियर मेले के लगने का वर्ष भर बेसर्बी से लोग इंतजार करते थे। इस मेले के आयोजन से जहां लोगों का धंधा, व्यवसाय बढ़ता था। वहीं जरूरतमंदों को वर्ष भर के लिये रोजगार भी प्राप्त होता है। श्री तोमर ने कहा कि ग्वालियर व्यापार मेले के पास पर्याप्त अधोसंरचना होने के कारण इस मेले का विस्तार कर वर्ष के 8 माहों तक मेले का आयोजन किया जा सकता है। राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि यह ग्वालियर के लिये नहीं बल्कि पूरे मध्यप्रदेश के लिये ऐतिहासिक क्षण है कि 100 वर्षों से अधिक समय से लग रहे।

इस ऐतिहासिक एवं प्राचीन मेले की शुरूआत सिंधिया परिवार के पूर्वजों द्वारा की गई थी। उन्होंने कहा कि शुरू में यह मेला एक पशु मेले के रूप में शुरू किया गया था। जिसका धीरे-धीरे विस्तार कर उनके पूज्य पिताजी स्व. माधवराव सिंधिया ने व्यापार मेले के रूप में पहचान दिलाई। इस मेले की पूरे देश में एक अपनी छवि एवं पहचान रही है। श्री सिंधिया ने कहा कि मेले में वाहन पंजीयन से पहले जहां 100 करोड़ का व्यापार होता था वहीं अब वाहनों के पंजीयन में छूट से 800 करोड़ का व्यापार होगा, जिससे राज्य सरकार को राजस्व प्राप्त होगा। सांसद विवेक नारायण शेजवलकर ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि यह खुशी की बात है कि आज ऐतिहासिक ग्वालियर व्यापार मेले की उदघोषणा हो रही है।