पुलिस व प्रशासन की मिलावटखोरों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही...

डबरा निवासी व्यापारी पर हुई NSA की कार्यवाही

ग्वालियर। पुलिस अधीक्षक ग्वालियर अमित सांघी व जिलाधीश ग्वालियर कौशलेन्द्र विक्रम के निर्देश पर ग्वालियर पुलिस व प्रशासन द्वारा जिले में मिलावट खोरों के विरूद्ध चलाये जा रहे अभियान के दौरान की जा रही कार्यवाहियो के तहत खाद्य विभाग की टीम द्वारा विगत कई दिनों से ग्वालियर जिले के अलग.अलग प्रतिष्ठानों एवं किराने की दुकानों पर खाद्य सामग्री के सेंपल लिये जा रहे थे। इसी कार्यवाही के दौरान खाद्य विभाग की टीम द्वारा डबरा स्थित रूकमणि मार्केट के पास गोमतीपुरा पर ष्ष्श्री दुर्गा आटा एवं मसाला पिसाई केन्द्रष्ष् का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उक्त फर्म से मसाल निमार्ण व पैकिंग का कार्य होते पाया गया। निरीक्षण क दौरान टीम को तैयार माल के साथ साथ विभिन्न ब्रांड के रेपर मिले जिन पर फर्जी नाम व पते अकिंत थे। 

उक्त रेपरों में मसाले पैकिंग का कार्य होते हुए भी पाया गयाए साथ ही उक्त परिसर में ही मसालों में भूसीए कलर एवं चावल का आटा मिलावट किये जाते पाया गया। जिस पर से खाद्य अधिकारी द्वारा सेंपल लेकर परिसर को सील किया जाकर व 06 क्विंटल मसालों को जप्त किया। खाद्य अधिकारी द्वारा दिये गये आवेदन पर से दिनांक 19/01/2021 को थाना डबरा में अपराध क्रमांक 48/21 धारा 272,273,420 भादवि का अपराध पंजीबद्ध किया गया।आरोपी द्वारा खाद्य पदार्थों में मिलावटी सामग्री मिलाकर धोखाधड़ी जैसे अपराध कर जन समुदाय को शारीरिक क्षति पहुंचाने जैसे अपराध करने का अभ्यस्त हो गया था। 

आरोपी के इस कृत्य से जनता के शारीरिक विकास पर काफी असर पड़ता है इसका स्वछंद रहना जनता के हित में नही होने से अति. पुलिस अधीक्षक ग्वालियर ग्रामीण जयराज कुबेर के निर्देश पर तथा एसडीओपी डबरा उमेश तोमर के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी डबरा निरीण् केडी सिंह द्वारा उक्त मिलावट खोरी के आरोपी के विरूद्ध राष्टीय सुरक्षा अधिनियम 1980 की धारा 3(2) के अंर्तगत कार्यवाही करने हेतु पुलिस अधीक्षक ग्वालियर को प्रतिवेदन भेजा गया। पुलिस अधीक्षक ग्वालियर के प्रतिवेदन पर जिलाधीश ग्वालियर द्वारा उक्त आरोपी के खिलाफ राष्टीय सुरक्षा अधिनियम 1980 की धारा 3(2) के अंर्तगत निरोध आदेश जारी किया गया। थाना प्रभारी डबरा निरीण् विनायक शुक्ला द्वारा दिनांक 29/01/2021 को मेहनत व सूझबूझ से उक्त आरोपी को पकड़कर केन्द्रीय जेल भेजा गया। पुलिस व प्रशासन द्वारा मिलावटखोरों के विरूद्ध भविष्य में भी इस प्रकार की कार्यवाहियां की जाती रहेगी।