प्रदेश के प्रत्येक जिले में दो तालाबों को...

जल संसाधन मंत्री श्री सिलावट ने योजना बनाने के दिये निर्देश

जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट ने रेसीडेंसी कोठी इंदौर में जल संसाधन विभाग, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग, जल निगम और नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के स्थानीय अधिकारियों की बैठक  में ली। जल संसाधन विभाग के कार्यपालन यंत्री को निर्देश दिए कि इन्दौर ज़िले के सभी तालाबों की वर्तमान स्थिति की रिपोर्ट प्रस्तुत करें। इन सभी तालाबों का गहरीकरण, सौंदर्यीकरण और जीर्णोद्धार करने की योजना बनायें, इन तालाबों में अतिक्रमण को राजस्व विभाग के सहयोग से हटाने के लिए योजना बनाएँ। 

प्रदेश के सभी जिलों में जल संरक्षण के लिए तालाब के जीर्णोद्धार और पर्यावरण सुधार के लिए बृहद पौधा रोपण अभियान भी चलाया जाएगा, इसकी शुरुवात इंदौर जिले से की जाएगी। सभी जिलों के कलेक्टर और सीईओ जिला पंचायत से चर्चा करके जिले के कम से कम दो तालाबों को पायलट प्रोजेक्ट के रुप लेकर कार्य शुरू किया जाएगा ,इसके लिए जन सहयोग से जन आंदोलन बनाया जाएगा और सभी कार्यों को मनरेगा के साथ ही जन सहयोग से कार्य कराया जाएगा। 

मंत्री श्री सिलावट ने बैठक में  इंदौर के सांवेर उद्वहन सिंचाई योजना और  सभी ग्रामों में जल जीवन मिशन के तहत प्रस्तावित कार्यों की अद्यतन जानकारी भी ली। जल जीवन मिशन के तहत सांवेर विकासखंड के प्रत्येक गाँव के प्रत्येक घर में नल से जल्द जल पहुँचाने के संबंध में योजना की समीक्षा भी की। इंदौर ज़िले में जल संसाधन विभाग के अंतर्गत 58 तालाब की वर्तमान स्थिति और जल सरंक्षण के लिए  सर्वे कराकर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए है।