शिवराज सरकार की टालमटोल से नाराज…

मेला के व्यापारियों ने मेला प्राधिकरण के दफ्तर के बाहर दिया धरना

ग्वालियर। माधवराव सिंधिया व्यापार मेला को लेकर आज कड़ाके की ठंड में सैकड़ों की संख्या में मेला व्यापारियों ने अर्धनग्न होकर मेला प्राधिकरण के दफ्तर के बाहर प्रदर्शन किया। माधवराव सिंधिया व्यापार मेला व्यापारी संघ के नेतृत्व में किया गया ये प्रदर्शन असल में मेला लगाए जाने की तारीख अब तक घोषित न किए जाने को लेकर था। व्यापारियों की मांग थी कि जब प्रदेश के सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्योग (एमएसएमई) मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा मेला 15 जनवरी से लगाए जाने की घोषणा कर चुके है तो फिर इसके लिखित आदेश अब तक क्यों नहीं निकाले गए। 

वहीं 5 जनवरी को हुई कैबिनेट की बैठक में भी मेला को लेकर कोई निर्णय नहीं लिया गया। इस बार मेला लगेगा या कोरोना के कारण टाल दिया जाएगा इस सवाल का स्पष्ट जवाब किसी के पास नहीं है। इस असमंजस की स्थिति के कारण मेला में आने वाले व्यापारियों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है। मेला व्यापारी संघ ने स्पष्ट चेतावनी दी है कि अगर जल्द मेला की तारीख का ऐलान नहीं हुआ तो उग्र आंदोल किया जाएगा। मेला लगाए जाने को लेकर शासन स्तर पर अब तक कोई फैसला नहीं लिया गया है इसके पीछे वजह कोरोना संक्रमण बताया जाता रहा है। 

इस तर्क को मेला व्यापारी संघ ने खारिज कर दिया है। प्रदर्शन कर रहे संघ के अध्यक्ष महेंद्र भदकारिया, उपाध्यक्ष अनिल पुनियानी, सचिव महेश मुदगल सहित संघ के पदाधिकारी व व्यापारियों ने कहा कि संक्रमण काल में सब कुछ बंद था लेकिन अब सब कुछ अनलॉक है तो फिर मेला को लॉक क्यों किया गया है। संघ ने कहा कि व्यापारी कोरोना संक्रमण को लेकर सतर्क है और गाइड लाइन के तहत व्यवस्था किए जाने का वचन भी दिया गया था तो फिर मेला के आयोजन में देरी क्यों हो रही है।