मंदिर निर्माण के लिए 15 जनवरी से 27 फरवरी तक चलेगा समर्पण अभियान...

देश के प्रत्येक राम भक्त से लिया जाएगा आर्थिक सहयोग

अयोध्या में श्री राम का भव्य मंदिर बनाने के लिए भूमि पूजन स्वयं प्रधानमंत्री द्वारा किया जा चुका है अब इस मंदिर की भव्यता को देखते हुए इसमें अपार धन की आवश्यकता होगी इसे ध्यान में रख कर  हुए विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ता साधु संत समाज के लोगों के साथ आगामी 15 जनवरी से 27 फरवरी तक देश के 500000 गांव के 13 करोड़ परिवारों को श्री राम जन्मभूमि से सीधे जोड़कर रामतों का प्रसार करेंगे। 

इस दौरान मंदिर निर्माण के लिए जिसकी जैसी श्रद्धा हो पैसा चंदा भी एकत्रित किया जाएगा यह कहना है विश्व हिंदू परिषद के भोपाल क्षेत्र के क्षेत्रीय मंत्री राजेश तिवारी का। उन्होंने पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा की मंदिर निर्माण के लिए इस अभियान में हर जाति मत पंथ संप्रदाय क्षेत्र के लोगों से सहयोग लिया जाएगा इस समन्वित सहयोग से बना श्री राम का मंदिर वास्तव में एक राष्ट्र मंदिर का रूप लेगा। श्री तिवारी के अनुसार हमें सिर्फ निधि दानी ही नहीं अपितु समय दानी भी चाहिए जो तन मन धन से हमें सहयोग करें और मंदिर निर्माण के कार्य में बढ़-चढ़कर आगे आए। 

श्री तिवारी ने आगे चर्चा करते हुए कहा कि मंदिर निर्माण की तैयारी जोर-शोर से जारी है। इसके लिए विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ता पदाधिकारी साधु संत समाज के लोग लगभग 65 करोड़ आबादी तक पहुंचने में सक्षम है और यह कार्यक्रम पूरे सिस्टम एक ढंग से किया जाना है जो लोगों से मंदिर निर्माण के लिए धन संग्रह करेंगे मंदिर निर्माण के लिए कोई भी व्यक्ति ₹10 से लेकर जितना चाहे दान दे सकता है यह कहना है श्री तिवारी का। 

उन्होंने बताया कि 20000 रुपए तक का दान कोई भी नगद दे सकता है उसके इसके लिए बाकायदा दानदाता को कूपन और दान की रसीद दी जाएगी और उससे ज्यादा का दान यदि कोई देना चाहता है तो वह चेक के माध्यम से लिया जाएगा साथ ही दानदाता को आयकर में भी छूट दिलवाई जाएगी। वार्ता के दौरान विश्व हिंदू परिषद के प्रांतीय मंत्री पप्पू वर्मा, क्षेत्रीय अभियान प्रमुख राम जन्मभूमि क्षेत्र न्यास पप्पू राठौर, से अभियान प्रमुख नवल शुक्ला और ग्वालियर जिला अध्यक्ष राजेंद्र बांदेल विशेष रूप से मौजूद रहे।