मौके पर ही पेंशन स्वीकृत भी कराई...

वृद्ध की पीड़ा समझ ऊर्जा मंत्री ने स्वयं धकेला ठेला

ग्वालियर। कड़ाके की ठंड में 65 वर्षीय बुजुर्ग को पूरी दम लगाकर हाथ ठेला धकेलता देख ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर का दिल पसीज गया और उन्होंने अपनी गाड़ी से उतरकर बुजुर्ग के साथ उसके ठेले को धकेलने में मदद की। हजीरा के स्टेट बैंक चौराहे पर सामान से भरे ठेले को बमुश्किल चढ़ाई पर चढ़ा रहे वृद्ध रघुवर पाल को तब आश्चर्य हुआ कि उसके साथ जो उसका सहयोग कर रहा है वह प्रदेश का ऊर्जा मंत्री है।

आम जनों की समस्याओं के निराकरण के लिये ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर सदैव जनता के मध्य पहुँचकर उनकी समस्यायें सुनते हैं और उनका निराकरण भी कराते हैं। आम आदमी की तरह लोगों के साथ घुल मिल जाना उनकी दिनचर्या का एक हिस्सा है। क्षेत्र के लोग उन्हें मंत्री ही नहीं अपना भाई और बेटा मानते हैं। वे अपने आपको जन सेवक कहलाना भी पसंद करते हैं। 

कभी हाथ में झाड़ू लेकर सफाई करना तो कभी वृद्ध महिलाओं को अपनी गाड़ी में बिठाकर अपनी समस्याओं का निराकरण कराना उनकी दिनचर्या का हिस्सा है। शनिवार को अपने क्षेत्र में भ्रमण के दौरान जब 65 वर्षीय हाथ ठेला चालक रघुवर पाल को उन्होंने परेशानी में देखा तो तत्काल अपनी गाड़ी से उतरे और उसके ठेले को साथ में धकेलकर गंतव्य स्थल तक पहुँचाया। 

इतना ही नहीं उन्होंने रास्ते में जब रघुवर पाल से पूछा कि उन्हें वृद्धावस्था पेंशन मिलती है तो जानकारी मिली कि पेंशन नहीं मिलती है। ऊर्जा मंत्री ने तत्काल संबंधित अधिकारियों को बुलाकर उसकी पेंशन भी स्वीकृत कराई और उसे अपनी गाड़ी में बिठाकर घर तक भी भिजवाया। श्री तोमर ने हाथ ठेला चालक रघुवर पाल की पेंशन न केवल स्वीकृत कराई बल्कि उनको प्रणाम कर उनकी पेंशन स्वीकृति का प्रमण-पत्र भी भेंट किया।