संभागआयुक्त ने की एंटी माफिया अभियान की समीक्षा...

रेत के अवैध परिवहन को रोकने के लिये 24 घंटे नाके सक्रिय रहें : श्री सक्सेना

ग्वालियर। रेत एवं अन्य खनिज पदार्थों के अवैध परिवहन को रोकने के लिये बनाए गए नाके 24 घंटे सक्रिय रहें। इन नाकों पर राजस्व विभाग के कर्मचारियों के साथ-साथ पर्याप्त  पुलिस बल भी तैनात रहे। यदि कोई भी नाका सक्रिय नहीं मिला तो संबंधित जिले के खनिज अधिकारी के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई की जायेगी। यह निर्देश संभाग आयुक्त आशीष सक्सेना ने गूगल मीट के जरिए ग्वालियर-चंबल संभाग के अधिकारियों को दिए। उन्होंने एंटी माफिया अभियान के तहत सख्त कार्रवाई करने पर जोर देते हुए कहा कि कार्रवाई ऐसी हो जिससे समाज में सकारात्मक संदेश जाए और माफियाओं में खौफ पैदा हो। शुक्रवार को संभाग आयुक्त ने गूगल मीट के जरिए दो चरणों में ग्वालियर एवं चंबल संभाग के अधिकारियों से चर्चा कर राज्य शासन के प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों एवं कानून-व्यवस्था की समीक्षा की। 

संभागवार हुई गूगल मीट में पुलिस महानिरीक्षक ग्वालियर अविनाश शर्मा व चंबल मनोज शर्मा, पुलिस उप महानिरीक्षक ग्वालियर सचिन अतुलकर व चंबल राजेश हिंगणकर तथा  ग्वालियर कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह व पुलिस अधीक्षक अमित सांघी सहित दोनों संभागों के सभी जिलों के कलेक्टर व पुलिस अधीक्षक मौजूद थे। संभाग आयुक्त ने एंटी माफिया अभियान की समीक्षा के दौरान निर्देश दिए कि भू-माफियाओं से सरकारी जमीन मुक्त कराने के साथ-साथ उनके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज कराएँ। 

साथ ही भू-माफिया, शराब माफिया, मिलावटखोर द्वारा अवैध तरीके से बनाए गए मकान ध्वस्त कर उनके द्वारा जुटाई गई अवैध सम्पत्ति राजसात करें। इसी तरह चिटफंडियों द्वारा आम जनता की कमाई हड़पकर जुटाई गई सम्पत्तियाँ नीलाम करने की कार्रवाई भी प्रमुखता से करें, जिससे निवेशकों का धन लौटाया जा सके। उन्होंने सभी तरह के अवैध धंधों में लिप्त माफियाओं के खिलाफ जिला बदर एवं राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई करने पर भी बल दिया। संभाग आयुक्त ने ग्वालियर जिले में चिटफंड कंपनियों के खिलाफ की जा रही कार्रवाई की सराहना की। 

कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने जानकारी दी कि जिले में विभिन्न चिटफंड कंपनियों की लगभग 109 करोड़ रूपए लागत की 126 परिसम्पत्तियाँ कुर्क कर ली गई हैं। साथ ही इनमें से लगभग 68 लाख रूपए की 4 परिसम्पत्तियों की नीलामी भी कर दी गई है। जिला प्रशासन ने कुर्क की गई शेष परिसम्पत्तियों को नीलाम करने के लिये न्यायालय से अनुमति लेने की कार्यवाही की जा रही है। गूगल मीट में बताया गया कि रेत एवं अन्य खनिजों के अवैध परिवहन को रोकने के लिये ग्वालियर जिले में 7 नाके स्थापित किए गए हैं। इसी तरह अशोकनगर में 11, गुना में 13, भिण्ड में 4 व मुरैना में 2 नाके सहित दोनों संभागों के अन्य जिलों में पर्याप्त संख्या में नाके स्थापित किए गए हैं। 

संभाग आयुक्त ने दोनों संभागों के जिला कलेक्टर से चर्चा कर राज्य शासन के प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों व योजनायें मसलन उचित मूल्य की दुकान से राशन वितरण, प्रधानमंत्री स्व-निधि, मुख्यमंत्री ग्रामीण पथ विक्रेता योजना, आयुष्मान भारत, रोजगार मेले के माध्यम से युवाओ को रोजगार, गौशालाओं का निर्माण व संचालन, वनाधिकार पट्टों का वितरण, जल-जीवन मिशन, धान उपार्जन व गेहूँ उपार्जन की तैयारी, मनरेगा एवं प्रधानमंत्री आवास योजनाओं की प्रगति की समीक्षा की।

संभाग आयुक्त आशीष सक्सेना ने निर्देश दिए कि संभाग के सभी जिलों में राज्य सरकार की मंशा के अनुरूप गुमशुदा बच्चों को ढूंढकर वापस लाने के लिये गंभीरता से प्रयास किए जाएं, इसमें किसी प्रकार की ढ़िलाई न हो। गूगल मीट में बताया गया कि चंबल संभाग के सभी जिलों में गुमशुदा 77 बच्चे खोजने में पुलिस ने सफलता हासिल की है। इसी तरह ग्वालियर संभाग के सभी जिलों में अभियान बतौर गुमशुदा बच्चे खोजे गए हैं। संभाग आयुक्त ने गूगल मीट में यह भी निर्देश दिए कि पुलिस के सहयोग के लिये महिला-बाल विकास विभाग द्वारा हर जिले में एक नोडल अधिकारी नियुक्त किया जाए। जिससे महिलाओं व बच्चों से संबंधित अपराधों में त्वरित कार्रवाई की जा सके।