महाराष्ट्र के सांगोला से पश्चिम बंगाल के शालिमार के बीच…

PM मोदी ने 100 वीं किसान रेल को दिखाई हरी झंडी

नई दिल्ली। पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए महाराष्ट्र के सांगोला से पश्चिम बंगाल के शालिमार के बीच 100 वीं किसान रेल को हरी झंडी दिखाई। केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और पीयूष गोयल भी इस अवसर पर मौजूद रहे। इस मौके पर उन्होनें कहा कि मैं देश के करोड़ों किसानों को बधाई देता हूं। कोरोना वायरस चुनौती के बावजूद पिछले चार महीनों में किसान रेल नेटवर्क का विस्तार हुआ है और इसे अब 100 वीं रेल मिल गई है। प्रधानमंत्री ने कहा कि किसान रेल सेवा, देश के किसानों की आमदनी बढ़ाने की दिशा में भी एक बहुत बड़ा कदम है। इससे खेती से जुड़ी अर्थव्वस्था में बड़ा बदलाव आएगा। 

इससे देश की कोल्ड सप्लाई चेन की ताकत भी बढ़ेगी। उन्होनें कहा कि अगस्त महीने में पूरी तरह किसान समर्पित रेल शुरू की गई। किसान रेल से देश के 80 फीसदी से अधिक छोटे और सीमांत किसानों को मदद मिल रही है। छोटा किसान 50 किलो का पार्सल भी बड़े बाजार में बेच सकता है। उन्होनें कहा कि सबसे छोटा 3 किलो का अनार पैकेज और मुर्गियों के अंडों का छोटा पार्सल भी किसान रेल में भेजा गया है। रेल ने देश को जोड़ा अब किसान रेल देश के किसानों के उत्पाद को जोड़ रहा है। हमारी नियत साफ है। बजट में ही इसकी घोषणा की थी। पीएम मोदी ने कहा कि हम सही रास्ते पर है। 

शुरू में ये किसान रेल साप्ताहिक थी इसकी मांग बढ़ी और अब यह सप्ताह में 3 दिन चल रही है। ये स्पष्ठ संदेश है कि देश का किसान क्या चाहता है। ये इस बात का प्रमाण है कि हमारा किसान नई संभावनाओं के लिए भी तैयार है। ऐसे ही हम कृषि सुधार की तरफ बढ़े है। प्रधानमंत्री ने कहा कि किसान की आय बढ़ रही खर्च कम हो रहा है। हम देखते है कि टमाटर का दाम कम हो जाये तो किसान असहाय होता है। अब नए कृषि सुधार के बाद उसे विकल्प मिला है। वो अपनी उपज देश के उस कोने भेज सकता है जहां टमाटर के दाम ज्यादा है। ये किसान रेल चलता फिरता कोल्ड स्टोरेज है।