शहर की यातायात व्यवस्था को स्मार्ट बनाने पर दिया जोर…

स्मार्ट सड़कों के जरिए शहर के प्रमुख बाजारों से जुड़ेगा महाराज बाड़ा : शेजवलकर

ग्वालियर। ग्वालियर शहर के मुख्य बाजारों को महाराज बाड़ा से जोड़ने वाले मार्गों पर स्मार्ट सड़कें बनाई जायेंगीं। इन सड़कों के बनने से यातायात व्यवस्था बेहतर होगी। साथ ही शहर के सौंदर्यीकरण में नए आयाम जुड़ेंगे। इस आशय की जानकारी क्षेत्रीय सांसद विवेक नारायण शेजवलकर की अध्यक्षता में आयोजित हुई स्मार्ट सिटी एडवायजरी फोरम की बैठक में दी गई। महाराज बाड़ा के सुनियोजित विकास के लिये बनाई गई एकीकृत परियोजना में शामिल पेडेस्ट्रियन जोन, मल्टीलेवल पार्किंग और 15.62 किलोमीटर लम्बी स्मार्ट सड़क की समीक्षा भी बैठक में हुई। साथ ही गाँधी मार्केट का पुनर्निर्माण, ऐतिहासिक इमारतों की फसाड लाइटिंग, फूलबाग चौपाटी का विकास, स्मार्ट स्कूल सहित स्मार्ट सिटी में शामिल अन्य महत्वपूर्ण परियोजनाओं पर भी बैठक में विस्तार से चर्चा हुई। ट्रिपल आईटीएम के समीप बनने जा रहे आईएसबीटी (इंटर स्टेट बस टर्मिनल) के लिये बनाए गए प्रोजेक्ट को आगे बढ़ाने पर भी सभी सदस्यों ने सहमति जताई। गुरूवार को यहाँ मोतीमहल स्थित मानसभागार में आयोजित हुई स्मार्ट सिटी एडवायजरी फोरम की बैठक में विधायक डॉ. सतीश सिकरवार व पूर्व महापौर समीक्षा गुप्ता सहित एडवायजरी फोरम के अन्य सदस्यगण तथा नगर निगम आयुक्त संदीप माकिन, स्मार्ट सिटी सीईओ जयति सिंह एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सतेन्द्र सिंह तोमर समेत अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे। 

सांसद शेजवलकर ने बैठक में कहा कि शहर के बेहतर यातायात के लिये स्मार्ट सिटी के तहत क्या – क्या उपाय हो सकते हैं उन्हें जल्द से जल्द धरातल पर लाएँ। शहर का यातायात सुगम होगा तभी पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम का लाभ शहरवासियों को मिल सकेगा। उन्होंने शहर की सड़कों से वाहनों का दबाब कम करने के लिये शहर में बनीं सभी स्मार्ट पार्किंग का उपयोग करने पर विशेष बल दिया। साथ ही कहा कि पुलिस सड़क पर वाहन पार्क न होने देकर नजदीक स्थित स्मार्ट पार्किंग में वाहन पहुँचाएँ। साथ ही यह भी सुनिश्चित करें कि सभी स्मार्ट पार्किंग स्थल पर वाहनों को पार्क कराने के लिये ऑपरेटर हर समय मौजूद रहें। सांसद शेजवलकर ने नगर निगम आयुक्त एवं स्मार्ट सिटी की सीईओ से कहा कि शहर में अमृत योजना के तहत हुए पेयजल व सीवर के कामों को स्मार्ट सिटी के कंट्रोल कमांड सेंटर से जोड़ा जाए, जिससे इनकी बेहतर ढंग से मॉनीटरिंग हो सके। उन्होंने कहा कि शहर के कचरे के बेहतर प्रबंधन के लिये विशेषज्ञों की राय ली जाए। खासतौर पर लैण्डफिल साइट पर जमा कचरे के ढेर का प्रबंधन और कचरे के बेहतर निष्पादन के लिये वैकल्पिक स्थान तलाशने के लिये भी कहा।  महाराज बाड़े पर स्थित टाउन हॉल के प्रवेश द्वार पर भवभूति की प्रतिमा स्थापित करने की बात भी बैठक में कही गई। 

विधायक सतीश सिकरवार ने बैठक में सुझाव दिया कि कटोराताल के पानी की निकासी को लेकर भी कार्य़योजना बनाई जाए। साथ ही कटोराताल के पास कोई ऐसी जगह चिन्हित करें जहां कुंड बनाया जा सके और शहरवासी कटोराताल के स्थान पर वहाँ पर पूजन साम्रगी का विसर्जन कर सकें। नगर निगम आयुक्त  संदिप माकिन ने बैठक में जानकारी दी कि स्मार्ट सिटी परियोजना के कार्यों को गति दी गई है। स्मार्ट सिटी के एबीडी क्षेत्र (महाराज बाड़ा) पर कार्य करने के साथ-साथ पेन सिटी (अन्य क्षेत्र) के तहत हाथ में लिए गए कार्य भी तेजी से मूर्तरूप ले रहे हैं। स्मार्ट सिटी की सीईओ जयति सिंह ने स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत किए जा रहे कार्यों के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि ग्वालियर स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत डिजिटल म्यूजियम व टाउन हॉल, स्मार्ट पार्क, स्मार्ट खेल मैदान सहित कई महत्वपूर्ण परियोजनाये पूर्ण हो चुकी है। जिसका लाभ जनता को मिल रहा है। उन्होंने बताया कि तानसेन समारोह का प्रसारण टाउन हॉल में किया जायेगा। जिससे संगीत रसिक अच्छे वातावरण में बैठकर समारोह की सभा का आनंद ले सकेंगे। श्रीमती सिंह ने प्रजेण्टेशन के माध्यम से बैठक में उपस्थित सदस्यो को स्मार्ट सिटी के तहत किए जाने वाले विकास कार्यों की सिलसिलेवार रूप से जानकारी दी।

फोरम के सदस्यों द्वारा भी स्मार्ट सिटी परियोजना के संबंध में उपयोगी सुझाव दिए गए। सुझावों पर बैठक में गंभीरता से विचार-विमर्श किया गया। इन सुझावों पर अमल की बात भी कही गई। क्षेत्रीय सांसद विवेक नारायण शेजवलकर की अध्यक्षता में आयोजित हुई स्मार्ट सिटी एडवायजरी फोरम की बैठक में तय किया गया कि फूलबाग क्षेत्र को फूड जोन के रूप में विकसित किया जायेगा। फूड जोन में चौपाटी, बोट क्लब व हाट बाजार सहित अन्य नजदीकी परिसर शामिल होंगे। फूड जोन में आने वाले सैलानियों के मनोरंजन के लिये लोक नृत्य व अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रमों की व्यवस्था भी बोट क्लब पर करने के प्रयास किए जायेंगे। स्मार्ट सिटी के एबीडी क्षेत्र महाराज बाड़ा को जोड़ने के लिये जो स्मार्ट सड़कें बनने जा रही हैं, उनमें अचलेश्वर मंदिर चौराहे से इंदरगंज, नई सड़क व हनुमान चौराहा होते हुए महाराज बाड़ा शामिल हैं। इसी तरह अचलेश्वर से आमखो बस स्टेण्ड, केआरजी कॉलेज होते हुए महाराज बाड़ा,  ईदगाह व माधौगंज होते हुए जिंसी रोड़ तक। इनके अलावा सराफा, दौलतगंज, दाल बाजार, लोहिया बाजार, हॉस्पिटल रोड़, पाटनकर बाजार इत्यादि को जोड़ते हुए भी महाराज बाड़े तक स्मार्ट सड़कें बनाई जायेंगीं। इन सड़कों की अनुमानित लागत लगभग 242 करोड़ रूपए होगी।