समयसीमा में कार्यवाही सुनिश्चित की जावे…

SC/ST के पेण्डिंग अपराधों का समयसीमा में हो निराकरण : आईजी ग्वालियर

ग्वालियर। पुलिस महानिरीक्षक ग्वालियर जो न अविनाश शर्मा एवं पुलिस अधीक्षक ग्वालियर अमित सांघी द्वारा पुलिस अधीक्षक कार्यालय सभागार में ग्वालियर जिले के समस्त राजपत्रित अधिकारियों तथा शहर व देहात के समस्त थाना प्रभारियों की अपराध समीक्षा बैठक ली गई। बैठक के प्रारम्भ में आईजी ग्वालियर ने थाना प्रभारियों से उनके थानों में लंबित अपराधों की जानकारी प्राप्त की तथा उनके शीघ्र निराकरण के निर्देश दिये। बैठक में पुलिस महानिरीक्षक ग्वालियर जोन द्वारा थानावार कानून व्यवस्था तथा थाने में लंबित अपराध व शिकायती आवेदन पत्रों की जानकारी भी प्राप्त की। 

उन्होेंने एससी/एसटी एवं महिला संबंधी अपराधों को गंभीरता से लेते हुए उनका समयसीमा में निकाल करने के निर्देश दिये। उन्होेने कहा कि विवेचकों को विवेचना के लिये एक्शन प्लान तैयार करना चाहिए जिसमें कार्य करने की समय सीमा निर्धारित हो। उन्होने सीएम हेल्प लाईन की लंबित शिकायतों के निराकरण के भी निर्देश दिये। आईजी ग्वालियर ने आदतन बदमाशों के खिलाफ सख्त कार्यवाही करने के निर्देश थाना प्रभारियों को दिये, उन्होने कहा कि पुलिस द्वारा की जाने वाली कार्यवाही से बदमाशों में भय व्याप्त होना चाहिए। माफियाओं, मिलावटखोरों, अवैध शराब, अवैध हथियार व मादक पदार्थ का व्यापार करने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाना चाहिए। 

मीटिंग में पुलिस महानिरीक्षक ग्वालियर जोन ने जिले के समस्त राजपत्रित अधिकारियों तथा थाना प्रभारियों को एससी/एसटी के पेण्डिंग अपराधों के निकाल के लिये समयसीमा में निराकरण करने की सख्त हिदायत दी और कहा कि समयावधि में लंबित एससी/एसटी के पेण्डिंग अपराधों का निकाल न करने वाले विवेचकों के खिलाफ कार्यवाही सुनिश्चित की जावेगी। 

आईजी ग्वालियर ने कहा कि लंबित स्थाई वारण्टों की तामीली, अवैध शराब, मादक पदार्थ तथा अबैध हथियारों के विरूद्ध अभियान चलाकर प्रभावी कार्यवाही की जावे। पुलिस अधीक्षक ने थाना प्रभारियों को हिदायत दी कि वह बेसिक पुलिसिंग पर विशेष ध्यान दें जिससे अपराधों में आवश्यक रूप से कमी परिलक्षित होगी। सीएम हेल्प लाइन की शिकायतों का समयसीमा में निराकरण कर अच्छा कार्य करने वाले शहर व देहात के थाना प्रभारियों को आईजी ग्वालियर ने ईनाम देकर पुरूस्कृत भी किया।

आईजी ग्वालियर ने विभिन्न आयोगों से प्राप्त लंबित शिकायतों की समीक्षा की और उनके शीघ्र निराकरण के निर्देश दिये। गुम बालक/बालिकाओं की दस्तयाबी के प्रयास किये जाए। थानों में अधिक से अधिक मायनर एक्ट व प्रतिबंधात्मक कार्यवाही की जावे। पुलिस अधीक्षक ग्वालियर ने बैठक में उपस्थित समस्त थाना प्रभारियों को हिदायत दी कि चोरी व नकबजनी की घटनाओं पर पूर्णतः अंकुश लगाया जावे तथा पुराने नकबजनी के अपराधों का शीघ्रता से खुलासा करने के प्रयास करें। 

उन्होने बैठक में कहा कि पुराने आदतन अपराधियों तथा पूर्व में नकबजनी के अपराधों में बंद हुए आरोपियों की वर्तमान स्थित ज्ञात कर उन पर निगरानी रखी जावे। इसके अलावा चोरी का माल खरीदने व बेचने वालों की सूची तैयार कर उनकी भी तस्दीक की जाए। पुलिस अधीक्षक ने बैठक के दौरान समस्त थाना प्रभारियों को निर्देश दिये कि थाने में शिकायत लेकर आने वाले फरियादियों के साथ नम्रतापूर्ण व्यवहार किया जाकर उनकी बात को पूरी शालीनता से सुना जावे तथा उस पर विधि संगत कार्यवाही की जावे तथा महिला संबंधी अपराधों में भी समयसीमा में कार्यवाही सुनिश्चित की जावे।