शासकीय योजनाओं का आम जनों को मिले समय पर लाभ…

आत्मनिर्भर प्रदेश के लिये हर जिले का बने प्लान : संभागायुक्त

ग्वालियर। आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के लिये हर जिले का प्लान तैयार किया जाए। जिले में बनाए गए प्लान के क्रियान्वयन के लिये कलेक्टर प्रति सप्ताह उसकी समीक्षा भी करें। एक जिला एक उत्पाद के कंसेप्ट पर भी कार्य किया जाए। शासकीय योजनाओं का लाभ जरूरतमंद को समय पर मिलेए यह भी सुनिश्चित किया जाए। संभागीय आयुक्त आशीष सक्सेना ने शुक्रवार को मोतीमहल के मानसभागार में संभागीय विकास कार्यों की समीक्षा बैठक में यह बात कही।

संभागीय विकास कार्यों की बैठक में विकास कार्यों की समीक्षा के साथ.साथ आत्मनिर्भर मध्यप्रदेशए मिलावट के विरूद्ध चलाए जा रहे अभियानए कोविड.19 के साथ.साथ कानून व्यवस्था की स्थिति की भी समीक्षा की गई। बैठक में कलेक्टर ग्वालियर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह सहित संभाग के सभी जिलों के जिला कलेक्टरए सीईओ जिला पंचायतए संभागीय उप आयुक्त राजस्व आर पी भारती सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे। संभागीय आयुक्त आशीष सक्सेना ने सभी जिला कलेक्टरों से कहा कि नागरिक सुविधाओं का क्रियान्वयन बेहतर होना चाहिए। 

नागरिकों को घर बैठे शासन की सुविधाओं का लाभ मिलेए इसके लिये ऑनलाइन सिस्टम को मजबूत किया जाए। छोटी.छोटी समस्याओं के निराकरण के लिये आम जनों को शासकीय दफ्तरों तक न आना पड़ेए ऐसा सिस्टम डवलप किया जाए। मिलावट से मुक्ति के लिये चलाए जा रहे अभियान के तहत संभाग के सभी जिलों में प्रभावी कार्रवाई की जाए। अभियान के तहत न केवल मिलावटी सामान बेचने वालों के विरूद्ध बल्कि नकली सामग्री निर्माण करने वाले लोगों के विरूद्ध कार्रवाई हो। 

संभागीय आयुक्त श्री सक्सेना ने यह भी स्पष्ट किया कि मिलावट करने वालों के विरूद्ध एफआईआर के साथ.साथ एनएसए की कार्रवाई भी की जाए। सभी जिलों में जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन मिलकर मिलावट करने वालों के विरूद्ध अभियान चलाएँ। सभी कलेक्टर अपने.अपने जिलों में आम जनों से मिलावट करने वालों की सूचना देने की अपील भी करें। इसके लिये कलेक्टर एक वॉट्सएप नम्बर भी घोषित करें। मिलावट करने वालों की सूचना देने वालों का नाम गोपनीय रखा जाए।