जिसकी वजह से कमलनाथ CM  बने, उसी का विकास रोका…

जनता भगवान है और पूरा प्रदेश मंदिर व मैं इसका पुजारी हूं : CM

ग्वालियर 24 अक्टूबर। जिस ग्वालियर की वजह से ज्यादा सीटें जीतकर कमलनाथ मुख्यमंत्री बने, उसी ग्वालियर की जमकर उपेक्षा की और जनता से झूठे वादे किए। 15 महीने में विकास के लिए एक पैसा नहीं दिया और अब भ्रम फैलाकर पार्टी छोड़ने वाले नेताओं को गद्दार बता रहे हैं। गद्दारी कमलनाथ ने की, ग्वालियर व प्रदेश की जनता के साथ क्योंकि वादे पूरे नहीं किए। यही नहीं विकास की भाजपा सरकार की बनाई हुई योजनाएं रोक दीं, जिसका जबाव कमलनाथ को देने होगा। अब कांग्रेस के पास मुद्दा नहीं है तो वे जनता के मंच पर प्रणाम करने को घुटना टेकना बता रहे हैं, जबकि उनके नेता कमलनाथ और दिग्विजय सिंह तो अहंकारी और घमंडी हैं। उक्त बात शनिवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान ने ग्वालियर विधानसभा क्षेत्र के कोटेश्वर मैदान में प्रत्याशी प्रद्युम्न सिंह तोमर के समर्थन में जनसभा को संबोधित करते हुए कही। मुख्यमंत्री श्री चैहान ने एक बार फिर से कहा कि प्रदेश की जनता को मुफ्त कोरोना वैक्सीन उपलब्ध कराई जाएगी। इस जनसभा में केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया, विधायक अजय बिश्नोई, सीधी सांसद रीति पाठक, भाजपा युवा मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष अभिलाष पांडे और ग्वालियर जिलाध्यक्ष कमल माखीजानी उपस्थित थे। 

जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री श्री चैहान ने कहा कि यह ग्वालियर-चंबल अंचल ही था, जहां से ज्यादा सीटें मिलीं तो कांग्रेस सरकार के मुख्यमंत्री कमलनाथ बने, लेकिन उन्होंने हमेशा ग्वालियर की उपेक्षा की। ग्वालियर कभी आए नहीं।  प्रद्युम्न तोमर जब भी क्षेत्र के विकास कार्यों की योजना लेकर जाते तो धन की कमी का रोना रोने लगते। अरे विकास के लिए धन नहीं था, तो कमलनाथ मुख्यमंत्री क्यों बने, लेकिन वल्लभ भवन के दरवाजे हमेशा दलालों और उद्योगपतियों के लिए खुले रहते थे। कमलनाथ ने भाजपा के द्वारा बनाई गई विकास की योजनाओं को बंद कर दिया। लोगों से झूठे वादे किए , बेरोजगारों को भत्ता देंगे, कन्यादान में 51 हजार रुपए देंगे। मेधावी छात्र योजना बंद कर दी। गरीबों की संबल योजना बंद कर दी। अब भाजपा सरकार फिर से है और सभी योजनाएं चालू की जा रही हैं। इन योजनाओं का बंद करने का जबाव तो कमलनाथ को देना होगा। उन्होंने कहा कि अब प्रदेश की नौकरियों में फिर से भर्ती शुरु की जा रही है, लेकिन कमलनाथ सरकार तो युवाओं को मवेशी चराने की ट्रेनिंग देने जा रही थी। 

कांग्रेस ने गरीबों के कल्याण के लिए कुछ नहीं किया, लेकिन भाजपा की नीति है कि बजट का बड़ा हिस्सा गरीबों के लिए ही है। ग्वालियर विधानसभा के विकास के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि छह महीने के अल्प समय में 200 करोड़ रुपए से ज्यादा के विकास कार्य हुए हैं और अभी तो तीन वर्ष का समय बाकी है। अभी यहां केवल विकास का ट्रेलर आया है और पूरी पिक्चर बाकी है। उन्होंने कहा कि जब जयभान सिंह पवैया यहां से विधायक थे तो 1100 करोड़ रुपए के विकास कार्य हुए। अब केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, जयभान सिंह पवैया और प्रद्युम्न सिंह तोमर के साथ मिलकर ग्वालियर को औद्योगिक हब बनाएंगे और यहां के 75 फीसदी स्थानीय लोगों को उद्योगों में रोजगार मिलेगा। मुख्यमंत्री श्री चैहान ने कहा कि कांग्रेस के नेता कहते हैं कि शिवराज ने जनता के बीच घुटने टेक दिए। अब अहंकारी और घमंडी कमलनाथ और दिग्विजय सिंह क्या जाने विनम्रता और जनता की सेवा करना। मेरे लिए तो जनता ही भगवान है और पूरा मध्य प्रदेश मंदिर व मैं पुजारी हूं। कांग्रेस नेताओं ने मुझे घुटना टेक, नालायक, भूखा-नंगा और नारियल लेकर चलने वाला कहा। इससे मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता, क्योंकि मैं तो साधारण किसान परिवार का हूं। अब कांग्रेस नेता ही कह रहे हैं कि कमलनाथ देश के नंबर-2 उद्योगपति हैं। 

इन नेताओं का विकास से कोई लेना-देना नहीं है, जब कमलनाथ ने विकास के काम किए ही नहीं, तो वो कैसे नारियल फोड़ते। अब नारियल फोड़ना तो शिवराज की किस्मत में था और कोरोना संकट में भी विकास कार्यों में कमी नहीं आने दी। उन्होंने फिर से वादा दोहराया कि जैसे ही कोरोना वैक्सीन उपलब्ध होगी, प्रदेश की जनता को मुफ्त उपलब्ध कराई जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चैहान ने कहा कि ग्वालियर विधानसभा क्षेत्र बहुत पवित्र है। केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर यहां से चुनाव लड़े तो आगे बढ़ते गए और केन्द्र में प्रभावशाली मंत्री हैं। जयभान सिंह पवैया यहां से जीते तो सीधे मंत्री बने और उस राम मंदिर के साक्षी बने, जो अब अयोध्या में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में बनने जा रहा है। जनसभा में प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कहा कि  मैंने मंत्री और विधायकी छोड़ी ग्वालियर क्षेत्र के हक और मान-सम्मान के लिए। कांग्रेस की कमलनाथ सरकार में यहां सड़कें नहीं बनी, नाले सही नहीं हुए। जब मुख्यमंत्री कमलनाथ से विकास के लिए धन मांगा तो कहा बजट नहीं हैं। अब भाजपा सरकार में जो वादे 2008 में किए थे, वे अब भाजपा सरकार में पूरे हो रहे हैं। इसके लिए मैं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान, केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर व जयभान सिंह पवैया जी का, जिनके सहयोग से विकास काम पूरे हो रहे हैं। उन्होंने अपने क्षेत्र के लिए मुख्यमंत्री से एक कन्या महाविद्यालय स्थापित करने की मांग सामने रखी।