प्राथमिक जांच रिपोर्ट के आधार पर की बड़ी कार्रवाई…

CM योगी ने एसपी-डीएसपी समेत 5 पुलिसकर्मियों को किया सस्पेंड

लखनऊ। हाथरस गैंगरेप केस को लेकर उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने सख्त रुख अपना लिया है. सीएम योगी ने दोषियों को जल्द से जल्द भविष्य के लिए उदाहरण प्रस्तुत करने वाला दंड देने की बात कही है. वहीं प्राथमिक जांच रिपोर्ट के आधार पर मौजूदा एसपी, डीएसपी, इंस्पेक्टर समेत 5 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है. इन पांच निलंबित पुलिसकर्मियों की लिस्ट में हाथरस एसपी विक्रांत वीर, सीओ राम सबद, 

इंस्पेक्टर दिनेश कुमार वर्मा, एसआई जगवीर सिंह और हेड कांस्टेबल महेश पाल का नाम शामिल है. एसआईटी की रिपोर्ट के आधार पर राज्य सरकार द्वारा की गई इस कार्रवाई के बाद अब विनीत जायसवाल को हाथरस का नया एसपी बनाया गया है. बताया जा रहा है कि जिस प्रकार हाथरस प्रशासन ने इस पूरे मामले को हैंडल किया है उससे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बेहद नाराज हैं और इसलिए देर शाम अधिकारियों की रिपोर्ट सीएम आफिस मंगाई गई थी. 

जिसके बाद योगी सरकार ने ये फैसला सुनाया है. अधिकारियों पर गाज गिरने के बाद प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा, 'जी कुछ मोहरों को सस्पेंड करने से क्या होगा? हाथरस की पीड़िता, उसके परिवार को भीषण कष्ट किसके ऑर्डर पर दिया गया? हाथरस के डीएम, एसपी के फोन रिकार्ड्स पब्लिक किए जाएं. मुख्यमंत्री अपनी जिम्मेदारी से हटने की कोशिश न करें. देश देख रहा है सीएम योगी इस्तीफा दो.