शासकीय माध्यमिक विद्यालय थाटीपुर की जमीन पर भू माफिया की नजर...

भू माफिया द्वारा शासकीय जमीन पर किया जा रहा है अवैध कब्जा

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान अदम्य साहस दिखाने वाले सेना के अधिकारी मचल सिंह तोमर को उनके अदम्य साहस के लिए तत्कालीन सरकार द्वारा बतौर तोहफे के रूप में एक जमीन का टुकड़ा जो वर्तमान में स्थान चौहान प्याऊ के सामने है, दिया गया था।  जिसका पट्टा नाम पर था, लेकिन उस पट्टे के स्थान पर एक दूसरा फर्जी पट्टा भूमाफिया द्वारा तैयार करा लिया गया है और उस पट्टे के आधार पर उस जमीन को कब्जाना शुरू कर दिया है । इस जमीन से लगा हुआ एक सास शासकीय स्कूल भी संचालित होता है उस स्कूल की भी कुछ जमीन इस भू माफिया के द्वारा कब्जा ली गई है । 

यह कहना है मचल सिंह तोमर के परपोते दिनेश सिंह परमार का। श्री परमार का कहना है कि भूमाफिया द्वारा इस जमीन पर वर्तमान में जो विद्यालय के प्राचार्य हैं उनके ढुलमुल रवैये और क्षेत्रीय एसडीएम की मिलीभगत के चलते इस भूमि को कब जा जा रहा है इसमें विशेषकर क्षेत्रीय एसडीएम की संलिप्तता पाए जाने की बात श्री परमार के द्वारा प्रमुखता से पत्रकारों के सामने एक प्रेस वार्ता के दौरान रखी गई। 

इस भूमि को कब्जे से मुक्त कराने के लिए श्री तोमर के परपोते दिनेश सिंह परमार ने अपने स्तर पर हर दरवाजे को खटखटाया जहां से उन्हें राहत मिल सकती थी लेकिन जब चारों ओर से इस कब्जे को रुकवाने में नाकाम हो गए तब उन्होंने आखिरकार मीडिया का सहारा लिया और मीडिया के सामने अपनी बात रखी। उन्होंने शासन व प्रशासन से पत्रकारों के माध्यम पत्रकारों के माध्यम से गुहार लगाई है कि भूमाफिया द्वारा फर्जी पट्टों व कागजात के आधार पर कब्जा की गई भूमि को भू माफिया से मुक्त करा कर उस जमीन के वास्तविक मालिक यानी कि श्री तोमर के परपोते दिनेश सिंह परमार की सुपुर्दगी में दिया जाए।