उपचुनाव के ऐलान के बाद, कांग्रेस को ग्वालियर में बड़ा झटका…

प्रदेश महामंत्री अशोक शर्मा कांग्रेस छोड़ भाजपा में हुए शामिल

ग्वालियर में कांग्रेस के कद्दावर नेता और पार्टी के प्रदेश महामंत्री अशोक शर्मा ने भाजपा ज्वाइन कर ली है। उन्होंने दोपहर में कांग्रेस से इस्तीफा दिया और शाम को भोपाल में भाजपा की सदस्यता ली। कांग्रेस को ग्वालियर चंबल अंचल में तीन दिन के अंदर तीसरा झटका है। यहां पर तीन दिन पहले करैरा से पूर्व विधायक शकुंतला खटीक और अशोकनगर में दलित नेता इटौरिया ने कांग्रेस छोड़ दी थी। खटीक ने दिल्ली में सिंधिया के समक्ष भाजपा की सदस्यता ली थी, वहीं दलित नेता इटौरिया ने बसपा ज्वाइन कर ली थी। भाजपा की राष्ट्रीय टीम में चुने गए नेताओं का भाजपा प्रदेश कार्यालय में स्वागत किया गया। इस दौरान एक्शन में ज्याेतिरादित्य सिंधिया। उन्होंने चेहरे पर मास्क नहीं लगाया था। भाजपा की राष्ट्रीय टीम में चुने गए नेताओं का भाजपा प्रदेश कार्यालय में स्वागत किया गया। इस दौरान एक्शन में ज्याेतिरादित्य सिंधिया। उन्होंने चेहरे पर मास्क नहीं लगाया था। 

बुधवार को भोपाल में भाजपा के प्रदेश दफ्तर में आयोजित कार्यक्रम में अशोक शर्मा (ग्वालियर), प्रदेश सचिव बसंत शर्मा, बलवंत शाक्य सांची एवं मांझी समाज के अध्यक्ष यशवंत मांझी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा एवं ज्योतिरादित्य सिंधिया के समक्ष भाजपा ज्वाइन किया। ग्वालियर के नेताओं को प्रदेश सरकार में मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर भोपाल लेकर आए। भाजपा प्रदेश कार्यालय में राष्ट्रीय संगठन में शामिल हुए प्रदेश के चार नेताओं का स्वागत किया गया। इस मौके पर शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि पार्टी संगठन ने जिन चार रत्नों पर विश्वास जताया है, वे पार्टी की अपेक्षाओं पर खरे उतरेंगे और अपने-अपने कार्यक्षेत्र में सफलता हासिल करेंगे। 

प्रदेश के चार कार्यकर्ताओं का राष्ट्रीय पदाधिकारी के रूप में जिम्मेदारी संभालना हमारे लिए गौरव की बात है। राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, सह कोषाध्यक्ष सुधीर गुप्ता, राष्ट्रीय सचिव ओमप्रकाश धुर्वे और अजा मोर्चा के अध्यक्ष बनाए गए लालसिंह आर्य का स्वागत किया गया। बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले पर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले की चर्चा करते हुए सीएम शिवराज ने कहा कि इस फैसले से कांग्रेस का कुचक्र बेनकाब हो गया है। उन्होंने कहा कि राम जन्मभूमि आंदोलन के दौरान कांग्रेस लगातार मंदिर निर्माण का विरोध करती रही और कुचक्र रचती रही। निहत्थे कारसेवकों पर गोलियां चलवाई और हमारे संतों, महात्माओं, नेताओं पर मुकदमे लाद दिए। 

लेकिन आज सुप्रीम कोर्ट के फैसले से कांग्रेस बेनकाब हो गई और यह साबित हो गया है कि जीत हमेशा सत्य की ही होती है। कोरोना काल में चुनाव की बहार है, इसलिए स्वागत में इतना विशाल फूलों का माला लाया गया है। कोरोना काल में चुनाव की बहार है, इसलिए स्वागत में इतना विशाल फूलों का माला लाया गया है। पार्टी नेताओं ने कहा कि आज नई चुनौती हमारे सामने है और संघर्ष का बिगुल बज चुका है। हमने मध्यप्रदेश में सरकार बनाई, क्योंकि पहले वाली सरकार भ्रष्ट और निकम्मी थी। वो सरकार हमारे कार्यकर्ताओं को कुचल रही थी और प्रदेश को लूट रही थी। अब ये सरकार बनी रहे, इसके लिए सभी कार्यकर्ताओं को परिश्रम की पराकाष्ठा करते हुए जुट जाना है।