चीन के विश्वव्यापी विरोध की वजह से…

प्रदेश के उद्यमियों के लिए बेहतर अवसर : श्री सखलेचा 

ग्वालियर। वर्तमान में पूरी दुनिया चीन के खिलाफ है। इसलिये कोरोना संकट के बाबजूद भारतीय उद्यमियों के लिये औद्योगिक निवेश के अच्छे अवसर हैं। मध्यप्रदेश के उद्यमी भी इसका फायदा उठाने के लिये आगे आएँ। प्रदेश सरकार उद्योगों की स्थापना के लिये जमीन, अधोसंरचना, स्किल्ड मानव संसाधन, बिजली व पानी सहित सभी तरह की सुविधायें आसानी से उपलब्ध करायेगी। यह बात प्रदेश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा ने कही। श्री सखलेचा मालनपुर, बानमौर व महाराजपुरा औद्योगिक क्षेत्र सहित ग्वालियर-चंबल संभाग के अन्य जिलों में स्थित औद्योगिक क्षेत्रों के उद्यमियों से चर्चा कर रहे थे। उन्होंने कहा उद्यमी यह सुनिश्चित करें कि उद्योगों से स्थानीय युवाओं को अधिक से अधिक रोजगार मिले। 

बुधवार को यहाँ ग्वालियर व्यापार मेला के सभाकक्ष में आयोजित हुई बैठक में मंत्री श्री सखलेचा ने संभागभर के औद्योगिक क्षेत्रों के प्रतिनिधियों के सुझाव सुने। साथ ही औद्योगिक क्षेत्रों की समस्यायें भी जानी। उन्होंने बैठक के दौरान सभी के सुझावों पर अमल के संबंध में विस्तारपूर्वक जानकारी दी। साथ ही समस्याओं के समाधान का भी भरोसा दिलाया। बैठक में संचालक एमएसएमई भास्कर लाक्षाकार, कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, उद्योग मंत्री के ओएसडी शैलेन्द्र सिंह, ग्वालियर-चंबल संभाग के विभिन्न औद्योगिक क्षेत्रों की एसोसिएशन के प्रतिनिधिगण एवं विभागीय अधिकारी मौजूद थे। मंत्री श्री सखलेचा ने कहा कि विश्वव्यापी चीन के बहिष्कार की वजह से वर्तमान में फर्नीचर, रेडीमेड गारमेंट, खिलौने व फूड प्रोसेसिंग जैसे उद्योगों में अपार संभावनायें हैं। 

ग्वालियर-चंबल संभाग के उद्यमी इसके लिये आगे आएं। उन्होंने कहा औद्योगिक क्लस्टर स्थापित कर इन उद्योगों की स्थापना करें, जिससे औद्योगिक इकाईयों को सरकार इकजाई रूप से सुविधायें मुहैया करा सके। साथ ही उत्पादों को बाजार मिलने में भी सुविधा रहे। श्री सखलेचा ने कहा कि सरकार ई-निर्यात में भी पूरी मदद करेगी। साथ ही लघु उद्योग निगम के माध्यम से भी उत्पादों को बाजार मुहैया कराने में मदद दी जायेगी। उन्होंने यह भी कहा कि लंबित अनुदान का भुगतान अगले दो-तीन माह के भीतर कर दिया जायेगा। साथ ही उद्योगों की स्थापना के लिये कोरोना संकट को ध्यान में रखकर सरकार बैंकों से ऐसे उद्यमियों को बिना गारंटी के अतिरिक्त कैपिटल भी दिलायेगी, जो स्थायी डिफॉल्टर नहीं है। उन्होंने औद्योगिक क्षेत्रों में डबल टैक्सेशन की समस्या, क्षेत्र विशेष की बिजली समस्या और आईएसआई अस्पताल की समस्याओं का जल्द से जल्द समाधान कराने का भरोसा उद्यमियों को दिलाया।