मोदी सरकार के लिए गुड न्यूज…

पहली बार GII रैंकिंग में टॉप-50 में शामिल हुआ भारत

file photo


वर्ल्ड इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी ऑर्गनाइजेशन (WIPO) हर साल ग्लोबल इनोवेशन इंडेक्स (GII) रैंकिंग जारी करता है. इस ग्लोबल इंडेक्स में भारत की स्थिति पिछले पांच वर्षों में लगातार बेहतर हुई है. इस साल भारत में लंबी छलांग के बाद टॉप-50 में अपनी जगह बना ली है. GII 2020 में भारत को 4 स्थान का फायदा हुआ है. अब भारत वैश्विक स्तर पर 48वें नंबर पर आ गया है. पिछले साल इस इंडेक्स में भारत 52वें स्थान पर था. कोरोना संकट के बीच भारत के लिए ये बेहद अच्छी खबर है, चीन इस लिस्ट में 14वें नंबर पर है.

इस सूची की टॉप-5 में स्विट्जरलैंड, स्वीडन, यू.एस, यू.के. और नीदरलैंड है. जबकि भारत, चीन, फिलीपींस, और वियतनाम ने लगातार बेहतर इनोवेशन की वजह से अपनी पॉजीशन को और बेहतर किया है. GII रैंकिंग में इन देशों को सबसे महत्वपूर्ण अर्थव्यवस्था के तौर पर दिखाया गया है. इस इंडेक्स में भारत को पिछले 5 वर्षों में लगातार सफलता मिली है, 2015 में भारत ग्लोबल इंडेक्स में 81वें नंबर पर था. उसके बाद 2016 में 66वें पर पहुंचा, 2017 में 60वें पहुंचा, 2018 में 57वें पायदान और 2019 में 52वें स्थान पर था. दिलचस्प बात यह है कि मध्य और दक्षिण एशिया में भारत पहले स्थान पर है.

भारत ने जीआईआई के सभी कैटेगरी में अपनी स्थिति बेहतर की है. आईसीटी सर्विसेज एक्सपोर्ट्स, गवर्नमेंट ऑनलाइन सर्विसेज, साइंस और इंजीनियरिंग में ग्रेजुएट्स की संख्या और आरएंडडी इंटेंसिव ग्लोबल कंपनीज जैसे इंडिकेटरों में भारत टॉप 15 में है. आईआईटी बंबई और दिल्ली, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस, बेंगलुरू जैसे संस्थानों और टॉप साइंटिफिक पब्लिकेशंस के दम पर भारत ने यह मुकाम हासिल किया है. इस सूची में स्विट्जरलैंड ने लगातार अपनी टॉप रैंकिंग बरकरार रखी है. जबकि रिपब्लिक ऑफ कोरिया ने पहली बार टॉप 10 में एंट्री मारी है. सिंगापुर इस सूची में 8वें स्थान पर है. डेनमार्क छठे नंबर पर, सातवें पर फिनलैंड और नौवें नंबर पर जर्मनी है.