इलाज के दाैरान दो की माैत…

बुधवार काे ग्वालियर में मिले 190 नए संक्रमित

काेराेना संक्रमण के शिकार तीन लाेगाें ने बुधवार काे इलाज के दाैरान दम ताेड़ दिया। इनमें दाे लाेग ग्वालियर के रहने वाले थे। इसके साथ ही अलग-अलग जांच रिपाेर्ट में 190 नए संक्रमित पाए गए हैं। मृतकाें में हनुमान बांध स्थित काेड़ेरा हाउस में रहने वाले लाेकेंद्र सिंह काेड़ेरा (65) ने निजी अस्पताल में इलाज के दाैरान दम ताेड़ दिया। उन्हें बीते राेज भर्ती कराया गया था। बरसाें तक कांग्रेस की राजनीति में सक्रिय रहे लाेकेंद्र सिंह हाल ही में पूर्व केंद्रीय मंत्री सिंधिया के समर्थन में भाजपा में चले गए थे। उधर बलवंत नगर निवासी ओमप्रकाश खरे (86) 13 अगस्त काे काेराेना संक्रमित पाए गए थे। 

यहां निजी अस्पताल में इलाज कराने के बाद परिजन उन्हें दिल्ली ले गए थे। वहां निजी अस्पताल में उनकी माैत हाे गई। इसी तरह पन्ना निवासी राकेश कुमार खरे (65) को सांस लेने में तकलीफ के चलते जेएएच में भर्ती कराया गया था। यहां बुधवार को मौत हो गई। शाम को उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जिला क्षय अधिकारी के कोरोना संक्रमित निकलने के बाद माधौ डिस्पेंसरी के सामने स्थित एमडीआर टीबी अस्पताल 48 घंटे के लिए बंद कर दिया गया है। इस कारण एमडीआर टीबी अस्पताल में आने वाले मरीजों को वापस लौटना पड़ा। 

कोरोना का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। दो दिन पहले जिला क्षय अधिकारी और उनके पति कोरोना पॉजिटिव निकली थीं। जिला क्षय अधिकारी के संपर्क में एमडीआर टीबी अस्पताल का स्टाफ आया था। लिहाजा एमडीआर टीबी अस्पताल को बुधवार को सेनिटाइज कराकर 48 घंटे के लिए बंद कर दिया गया। बुधवार को एमडीआर टीबी अस्पताल में दिखाने के लिए मरीज पहुंचे उन्हें यह कहकर लौटा दिया गया कि 48 घंटे के लिए अस्पताल बंद है,बाद में आना। यह दूसरा मौका है कि जब एमडीआर टीबी अस्पताल को बंद करना पड़ा है। दो माह पहले यहां एक स्टाफ के पॉजिटिव आने के बाद इसे दो दिन के लिए बंद किया गया था।