प्राप्त किये 6000 में से 4696.36 अंक और 3 स्टार दर्जा…

देश के 13 सबसे साफ शहरों में शामिल हुआ ग्वालियर

कभी सफाई में फिसड्डी रहने वाले ग्वालियर के लिए गुरुवार का दिन बड़ी उपलब्धि लेकर आया। पहली बार ग्वालियर देश के 4242 शहरों में टॉप 13 साफ और उम्दा शहराें की सूची में शामिल हो गया है। सर्वे में 1.16 लाख लोगों के पॉजिटिव फीडबैक, शहर को 3 स्टार रैकिंग और ओडीएफ डबल प्लस होने का फायदा ये मिला कि ग्वालियर को 6000 अंक में से 4696.36 नंबर हासिल हुए। दरअसल, केंद्र सरकार के आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय ने सबसे पहले ओडीएफ डबल प्लस के लिए सर्वे कराया था। उस वक्त दिल्ली से आई टीम को मौके पर खामियां मिली थीं। 

इस कारण ग्वालियर को ओडीएफ डबल प्लस नहीं दिया गया, लेकिन इससे ग्वालियर ने हिम्मत नहीं हारी। सांसद विवेक नारायण शेजवलकर के साथ नगर निगम आयुक्त संदीप माकिन ने दिल्ली में मंत्रालय के अधिकारियों से मिलकर दो बार सर्वे के लिए कहा। इस पहल का नतीजा यह रहा कि फिर से सर्वे हुआ और ग्वालियर को ओडीएफ डबल प्लस मिला। इस आधार पर 3 स्टार की रैकिंग भी मिल गई। इन दोनों के 1100 नंबरों से सर्वेक्षण की रैकिंग में फायदा मिला। साथ ही सिटीजन फीडबैक में 1500 में से सबसे ज्यादा नंबर 1250 मिले हैं।

इन तरीकाें से निखरी शहर की खूबसूरती और बढ़ाया मान

  • पिछले दाे साल में नगर निगम ने शहर की करीब 70 सड़कों को डस्ट फ्री किया है। किराए पर ली गईं धूल खींचने वाली मशीनें रात में चलाई गईं। 12 उत्कृष्ट भी तैयार की गईं।
  • शहर की सूरत निखारने के लिए मुख्य मार्ग, तिराहे और चाैराहाें पर रंगीन लाइट्स लगाई गईं। टूटे डिवाइडर ठीक किए गए। स्वर्णरेखा पर पुलों पर जालियां लगाईं। ताकि काेई कचरा न फेंके।
  • उन स्थानाें काे सुंदर और व्यवस्थित किया गया, जहां लाेग कचरा फेंकते थे। शहर में ऐसे सात सेल्फी प्वाइंट बनाए गए। यहां बेंच रखीं गईं व रंगीन पेवर्स ब्लॉक लगाकर खूबसूरती बढ़ाई गई।
  • बैजाताल में सीवर के पानी को री-साइकिल किया गया। इसके बाद बोटिंग करने वाले सैलानियाें से 5 लाख कमाए। निर्माण कचरे का उपयोग पेवर्स ब्लाॅक बनाने में किया गया।
  • 66 वार्डों में कचरा कलेक्शन की माॅनीटरिंग का काम वरिष्ठ अधिकारियों को सौंपा गया। कई कचरे के ठिए खत्म किए। उन इलाकों में हालात सुधरे, जहां कचरा पड़ा रहता था।
  • स्वच्छ सर्वेक्षण में शहर का 13वां स्थान आने से उत्साहित मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कहा कि अब 5वें नंबर के लिए प्रयास करेंगे। गौरतलब है कि श्री तोमर ने पिछले साल गली-मोहल्लों के नालों की सफाई खुद नालों में उतरकर जनसहयोग से कराई थी।