आधे घंटे में मिलेगी रिपोर्ट…
आज से MP में शुरू होगा कोविड का रैपिड एंटीजन टेस्ट

मप्र में कोरोना वायरस की टेस्ट रिपोर्ट में अब ज्यादा समय नहीं लगेगा। नेजल स्वाब का सैंपल लेने के बाद आधे से एक घंटे के भीतर ही पता चल जाएगा कि कोरोना है या नहीं। यह रैपिड एंटीजन (पीओएस-रैपिड प्वाइंट ऑफ केयर) गुरुवार से प्रारंभ होने जा रहा है। अभी तक कोविड-19 की जांच के लिए रियल टाइम पीसीआर को ही सर्वश्रेष्ठ व प्रामाणिक जांच माना जाता है, लेकिन इसके लिए बड़ी प्रयोगशालाओं की जरूरत पड़ती है। 

आईसीएमआर के अनुसार रैपिड एंटीजन टेस्ट के लिए किसी उपकरण की जरूरत नहीं। नेजल स्वाब का जहां से भी सैंपल लिया, वहीं 30 मिनट में रिपोर्ट मिल जाएगी। रैपिड एंटीजन टेस्ट से समस्त कोविड-19 के संदिग्ध मरीज, बिना लक्षण वाले, कीमोथैरेपी, एचआईवी मरीज, कैंसर, ट्रांसप्लांट के मरीज, 65 वर्ष से अधिक आयु वाले जिन्हें दूसरी बीमारी है, आदि की जांच हो सकती है।

इस रैपिड एंटीजन टेस्ट किट से जांच के बाद कोई पॉजिटिव आता है तो उसे कंफर्म संक्रमित माना जाएगा। यदि लक्षण होने के बाद भी कोई मरीज निगेटिव आता है तो उसकी बाद में आरटीपीसीआर से पुष्टि की जाएगी। केंद्र व राज्य सरकार के सभी सरकारी अस्पतालों, मेडिकल कॉलेज, एनएबीएच मान्यता प्राप्त निजी अस्पतालों एवं एनएबीएल व आईसीएमआर द्वारा अनुमोदित प्रयोगशालाओं में इससे जांच होगी।

इन शर्तों का पालन जरूरी
  • रैपिड एंटीजन टेस्ट किट से जांच करने के लिए सभी संस्थाओं को आईसीएमआर में पंजीकृत होकर लॉगिन क्रिडेशियल प्राप्त करना होगा।
  • जांच की समस्त रिपोर्ट आईसीएमआर पोर्टल में रियल टाइम एंट्री के जरिए आवश्यक होगी।
  • रैपिड एंटीजन टेस्ट किट से रिपोर्ट निगेटिव आती है तो सभी लक्षण वाले मरीजों की दोबारा आरटीपीसीआर से पुष्टि के लिए पहल जरूरी है।

  • स्वास्थ्य आयुक्त संजय गोयल ने बताया कि आईसीएमआर ने एक एजेंसी एसडी बायोसेंसर को अधिकृत किया है, जिससे रैपिड एंटीजन टेस्ट किट का उपार्जन होगा।