दो आतंकियों को दबोचा…
बड़े आतंकी मॉड्यूल का NIA ने किया खुलासा

पुणे। NIA ने पुणे से इस्लामिक स्टेट खुरासान प्रांत (ISKP) के दो आतंकियों को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार आतंकियों के नाम नबील खत्री और सादिया शेख हैं. नबील खत्री पुणे में जिम चलाता है और सादिया शेख बारामती में सेकेंड इयर की जर्नलिज्म की छात्रा है. सादिया शेख वही छात्रा है जिसे साल 2018 में जम्मू-कश्मीर पुलिस ने आतंकी हमला कराने की साजिश में हिरासत में लिया था. इस पूरे आतंकी मॉड्यूल का खुलासा दिल्ली पुलिस ने मार्च 2020 में किया था, जब दिल्ली के जामिया नगर इलाके से कश्मीरी पति-पत्नी जहांनजीब सामी वाणी और हिना बशीर बेग को गिरफ्तार किया था. दिल्ली पुलिस ने बताया था कि दिल्ली और देश के दूसरे हिस्सों में चल रहे CAA के खिलाफ प्रदर्शन को लेकर ये दोनों दिल्ली में आतंकी हमला करने की योजना बना रहे हैं. ये दोनों तिहाड़ जेल में पहले से ही NIA के केस में बंद आतंकी अब्दुल्ला बासित के संपर्क में थे. अब्दुल्ला बासित को NIA ने ISIS के अबू धाबी मॉड्यूल में गिरफ्तार किया था. 

जांच में पता चला है कि सादिया शेख जहांनसीब, हिना बशीर और जेल में बंद अब्दुल्ला बासित के संपर्क में थी. ये सभी आतंकी आपस में सिक्योर मैसेजिंग ऐप्लिकेशन के जरिए बात किया करते थे और देश में ISIS के लिए आतंकी भर्ती करना और आतंकी वारदात करने की योजना बना रहे थे. इनके साथ पुणे से ही गिरफ्तार नबील खत्री भी शामिल था. नबील इन आतंकियों के साथ मिलकर हथियार, फर्जी नाम-पते पर सिम कार्ड, IED को बनाने की तैयारी में लगा हुआ था. इसके लिए वो लगातार जहांनजीब से संपर्क में था ताकि देश में ISIS की आतंकी गतिविधियां फैलाई जा सके और वारदात को अंजाम दिया जा सके. सादिया शेख साल 2015 से ही ISIS के साथ जुड़ी हुई है और सोशल मीडिया के जरिए और सिक्योर मैसेजिंग ऐप्लिकेशन के जरिए ISIS के आतंकियों से बातचीत कर रही है. 

वो तभी से लगातार देश में आतंकी हमले करने और इसके लिए आतंकियों की भर्ती करने में लगी हुई है. साल 2018 में जम्मू-कश्मीर पुलिस ने सादिया शेख को आतंकी हमले करवाने की साजिश में हिरासत में भी लिया था. पुणे की रहने वाली सादिया ने उस समय पुलिस को बताया था कि वो कश्मीर में नर्सिंग कॉलेज में दाखिला लेने के लिए आई है लेकिन पुलिस को सादिया के आतंकी जाकिर मूसा के गांव में ठहरने से शक हुआ था और लगातार इस पर नजर रखी जा रही थी. NIA दोनों आतंकियों को पुणे से गिरफ्तार कर दिल्ली ला रही है. यहां NIA की अदालत में पेश कर रिमांड पर लेने की कोशिश की जाएगी. ताकि देश में जो आतंकी हमले करने की ये योजना बना रहे थे उसके बारे में पता लगा कर उसे रोका जा सके.