भोपाल आने-जाने के लिए ई-पास अनिवार्य…
भोपाल में हुआ 3 अगस्त तक टोटल लॉकडाउन का ऐलान

भोपाल। बढ़ते कोरोना मरीजों की रफ्तार को रोकने के लिए सरकार ने भोपाल में 10 दिन का टोटल लॉकडाउन का फैसला ले लिया है. ये आदेश 24 जुलाई की रात को 8 बजे से प्रभावशील होगा और 3 अगस्त की रात तक लागू रहेगा. इस फैसले में ज़रूरी और आकस्मिक चीजों को छोड़कर हर गतिविधियों पर प्रतिबंध रहेगा. इससे 1 अगस्त को होने वाली बकरीद और 3 अगस्त को रक्षाबंधन के त्योहार पर ग्रहण लग गया है. इस बात की जानकारी सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी ट्वीट करके दी है. गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कोरोना लगातार बढ़ रहा है. इसे रोकने के लिए भोपाल में ये फैसला लिया जा रहा है. 

कम्युनिटी स्प्रेड को रोकने के लिए लॉकडाउन का आदेश प्रभावशील होगा. गृह मंत्री ने बताया कि इसमें मेडिकल, सब्जी के ठेले, दूध व्यवसायी, इंडस्ट्री और सरकारी राशन दुकान को बाहर रखा गया है, लेकिन भोपाल में आवाजाही पर भी प्रतिबंध रहेगा. भोपाल आने और जाने के लिए ई-पास की व्यवस्था की जा रही है. गृह मंत्री ने कहा कि सरकारी दफ्तर में भी केवल दफ्तर को चलाने लायक स्टाफ और अफसरों की ही मौजूदगी रहेगी. भोपाल में अगले मंगलवार को होने वाली कैबिनेट बैठक भी वीडियो कांफ्रेंसिंग के ज़रिये ही की जाएगी. नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि ये संक्रमण भोपाल में खत्म हो जाए और दूसरे इलाकों में नहीं पहुंचे इसलिए शहर की होटलों में ठहरने पर भी पाबंदी रहेगी. सभी सरकारी राशन दुकानों को ये भी निर्देश दिए हैं कि 24 जुलाई की शाम तक गरीबों के घर राशन पहुंचाने का इंतज़ाम कर दिए जाएं. 

राजधानी के इस लॉकडाउन में दो त्योहार भी ज़द में आ रहे हैं. 1 अगस्त को बकरीद होगी, इसी के साथ 3 अगस्त को रक्षाबंधन का त्योहार भी नहीं मन सकेगा. लॉकडाउन की वजह से भोपाल में बहनों के घर भाई नहीं जा पायेंगे. दूसरे शहरों से भोपाल आने पर भी यही पाबंदी लागू रहेगी. बकरीद पर ईद की नमाज़ भी ईदगाह में नहीं पढ़ी जा सकेगी, बल्कि बीती ईद की तरह ही घर पर ही नमाज़ पढ़ने का इंतज़ाम करना होगा. गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बहनों से अपील की है कि वे राखी बांधने की बजाय डाक से राखी भेजें. राखी के त्योहार पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा. कोरोना संक्रमण काल में शारीरिक दूरी बनाकर ही त्योहार मनाया जाएं.