1000 किमी तक मार कर सकती है स्वदेशी क्रूज मिसाइल…
दुश्मनों के छक्के छुड़ाएगा 'निर्भय'

नई दिल्ली। चीन के साथ सरहद पर मौजूदा हालातों के देखते हुए सेना को और ताकतवर बनाने के लिए रक्षा खरीद परिषद ने बड़े फैसले लिए हैं. अब भारतीय सेनाओं को 1000 किमी तक मार करने वाली स्वदेशी क्रूज मिसाइल, नए फाइटर एयरक्राफ्ट, हवा में दुश्मन के एयरक्राफ्ट को तबाह करने वाली मिसाइल और नए मल्टी बैरल रॉकेट लांचर मिलेंगे. रक्षामंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में हुई बैठक में कुल 38 हजार 900 करोड़ के प्रपोजल को मंजूरी दी गई है. इसी के साथ भारत की पहली लॉन्ग रेंज क्रूज मिसाइल निर्भय के निर्माण के लिए रास्ता साफ हो गया है. 

गुरूवार को रक्षा खरीद परिषद ने निर्भय सहित कई अन्य स्वदेशी रक्षा उत्पादों के लिए 20400 करोड़ रूपये स्वीकृत किए हैं. निर्भय भारत की पहली लंबी दूरी की क्रूज मिसाइल है जिसकी रेंज 1000 किलोमीटर है. निर्भय मिसाइल दुश्मन के महत्वपूर्ण ठिकानों या जंगी जहाजों पर अचूक और घातक हमला करती है. इसी के साथ ही स्वदेशी हवा से हवा में मार करने वाली अस्त्र मिसाइल के भी निर्माण में तेजी लाने का फैसला किया गया है. अस्त्र मिसाइल 10 किलोमीटर से लेकर 160 किलोमीटर तक दुश्मन के किसी भी विमान को तबाह कर सकती है. 

इसे भारतीय वायुसेना के सभी फ्रंट लाइन फाइटर जैसे सुखोई, मिग 29, मिराज 2000 और तेजस में फिट किया जा सकता है. इसके साथ ही स्वदेशी मल्टी बैरल रॉकेट लॉन्चर पिनाका की भी नई रेजीमेंट तैयार की जाएगी. पिनाका 44 सैंकेड में 12 रॉकेट दाग सकती है और इसकी मार 40 किलोमीटर से 75 किलोमीटर तक है. भारतीय वायुसेना की ताकत बढ़ाने के लिए रूस से 21 मिग-29 और-12 सुखोई के सौदे को भी मंजूरी मिल गई है. साथ ही भारतीय वायुसेना के 59 मिग-29 के अपग्रेडेशन के लिए भी हरी झंडी दे दी गई है. इन सब की कुल लागत 18000 करोड़ रूपये के करीब है.