कब होंगे यह चुनाव तारिख अभी तय नहीं…
प्रदेश में अब 24 नहीं 25 सीटों पर होंगे उपचुनाव

भोपाल। बड़ा मलहरा सीट से विधायक प्रद्युम्न सिंह लोधी के त्यागपत्र के बाद विधानसभा में कांग्रेस के सदस्यों की संख्या 92 से घटकर 91 रह गई है। वर्तमान में भाजपा के 107, बसपा के दो, सपा का एक और चार निर्दलीय विधायक हैं। दो सौ तीस सदस्यीय विधानसभा में अभी तक 24 सीट रिक्त थीं। अब मलहरा सीट और रिक्त होने पर निकट भविष्य में 25 सीटों के लिए विधानसभा उपचुनाव होंगे। मध्यप्रदेश में कांग्रेस को एक और झटका लगा है। अब छतरपुर जिले की बड़ा मलहरा सीट से विधायक प्रद्युम्न सिंह लोधी भी भाजपा में शामिल हो गए। प्रद्युम्न ने विधानसभा की सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया है। 

बताया जा रहा है कि प्रद्युम्न के इस्तीफे की वजह ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में शामिल होने के बाद से उनके करीबियों के निशाने पर लिया गया। यह भी कहा जा रहा है कि कांग्रेस के और विधायक भी पार्टी छोड़ सकते हैं। ऐसे में उपचुनाव को लेकर मध्य प्रदेश में सियासी घमासान बढ़ गया है। इससे पहले मार्च में 22 कांग्रेस विधायकों ने पार्टी छोड़ दी थी और भाजपा में शामिल हो गए थे। बड़ा मलहरा, डबरा, बदवावर, भांडेर, बमौरी, मेहगांव, गोहद, सुरखी, ग्वालियर, मुरैना, दिमनी, ग्वालियर पूर्व, करेरा, हाटपिपल्या, सुमावली, अनूपपुर, सांची, अशोकनगर, पोहरी, अंबाह, सांवेर, मुंगावली, सुवासरा, जौरा, आगर-मालवा। 

2 जुलाई को शिवराज मंत्रीमंडल विस्तार में उमा समर्थक एक भी मंत्री को शामिल नहीं किए जाने पर उमाभारती ने खुलकर अपनी नाराजगी जताई थी। उमा ने यहां तक कहा था कि उन्होंने अपने क्षेत्र के दो विधायकों को मंत्री मंडल में शामिल किए जाने के बारे में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात की थी। मंत्रिमंडल विस्तार के बाद उमाभारती ने कहा था कि मंत्रिमंडल में जातीय संतुलन का ध्यान नहीं रखा गया है। भारती ने इस बाबत पार्टी नेतृत्व को पत्र भी लिखा था। आज कांग्रेस छो़ड़ भाजपा में शामिल हुए बड़ा मलहरा सीट से विधायक प्रद्युम्न सिंह लोधी समुदाय से आते हैं। मप्र के बुंदेलखंड में लोधी समुदाय के मतदाताओं की संख्या करीब साढ़े सात लाख से अधिक है।