प्रधानमंत्री पर लगाया चीन के सामने आत्मसमर्पण करने का आरोप…
PM मोदी को लेकर किए गए राहुल गांधी के ट्वीट पर भड़के CM शिवराज

भोपाल। चीन के साथ लद्दाख बॉर्डर पर रहे तनाव बे बीच राहुल गांधी और कांग्रेस लगातार केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ हमलावर है. राहुल गांधी ने एक ट्ववीट के जरिए प्रधानमंत्री मोदी पर चीन के सामने आत्मसमर्पण करने का आरोप लगाया है. उनके इस ट्वीट पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तीखी प्रतिक्रिया दी है. शिवराज सिंह चौहान ने सिलसिलेवार ट्वीट के जरिए राहुल गांधी और कांग्रेस पर पलटवार किया है. उन्होंने ट्वीट किया, ''मैं पिछले कई दिनों से देख रहा हूं कि कांग्रेस की ओर से, खास कर राहुल गांधी जी द्वारा हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के खिलाफ और भारत के खिलाफ एक सोचा-समझा अभियान सा चलाया जा रहा है! एक ऐसा अभियान जिसकी जड़ें सिर्फ झूठ से निकली हुई हैं.''

शिवराज ने अगले ट्वीट में लिखा, ''ये इस बात का प्रमाण है जो मैं हमेशा कहता आया हूँ कि राहुल जी झूठ बड़ी सफाई से बोलते हैं. उनमें अभी राजनीतिक परिपक्वता की कमी है. वो हमारे ऐसे प्रधानमंत्री को पता नहीं किस-किस नाम से बुला रहे हैं, जिन प्रधानमंत्री की वीरता और निडरता का लोहा आज पूरा विश्व मान चुका है! मैं उनसे पूछना चाहता हूँ कि क्या आप को ये पता नहीं है कि नरेंद्र मोदी जी ने ही सर्जिकल स्ट्राइक कर पाकिस्तान को करारा जवाब दिया था?'' मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री ने आगे ट्वीट किया,''उन्होंने ही विदेशी आतंकवादियों की कमर तोड़ दी है? देश में ही छिपे देश के दुश्मनों को सजा दिलाई है? ये सब आप आसानी से भूल गए राहुल गांधी जी? चीन से कैसे डील करना अब राहुल जी हमारे प्रधानमंत्री जी और देश की सेना को सिखाएँगे!!? जब आज पूरा देश एक साथ खड़ा है, हम सब अपने-अपने तरीके से चीन से लड़ाई लड़ रहे है, तब आप किसके साथ खड़े हैं राहुल गांधी जी?''

शिवराज सिंह चौहान ने अपने ट्वीट में लिखा, ''आप ये मत भूलिये की जब विश्वप्रसिद्ध टाइम पत्रिका ने 2012 में मनमोहन जी को अंडरअचीवर कहा था, तब देश के सम्मान को पहले रखते हुए, मैंने कहा था भारत का प्रधानमंत्री कभी भी अंडरअचीवर हो ही नहीं सकता. राहुल जी, राजनीति को थोड़े समय का अल्पविराम दीजिए, आज देश को हर एक नागरिक की जरूरत है.'' मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री ने आगे ट्वीट किया, ''कुछ लोग कहते हैं, आप से सच्चाई की उम्मीद करना सूर्यग्रहण के समय पर सूरज को चांद के पीछे छिपने से रोकने जैसा कठिन है. खैर, मैं कोशिश तो कर ही सकता हूं. और हां, सरेंडर के विषय में बात ही न करें तो अच्छा है. जय भारत. जय हिंद.''