पुलिस ने श्रव खोजने के लिये गौताखोर नदी में उतारे…
भाजपा नेता  ने लगाई चंबल में छलांग

मुरैना। वरिष्ट भाजपा नेता एवं पूर्व जिला महामंत्री नरेश गुप्ता ने बीमारी से तंग होकर मंगलवार-बुधबार की दरम्यानी रात दौलपुर और मुरैना जिले की सीमा से सटे राजघाट पुर से चंबल नदी में छलांग लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। खबर मिलते ही मौके पर पहुंची धौलपुर और मुरैना पुलिस ने राजघाट पल से श्री गुप्ता की स्कूटी बरामद कर ली है । साथ ही  मृतक श्री गुप्ता के शव को चंबल नदी से निकालने के लिये गौताखोरों को उतार लिया है लेकिन गौताखोर देर शाम तक मृतक श्री गुप्ता का शव नहीं निकाल सके। 

चंबल में श्री गुप्ता के छलांग लगाने की सूचना मिलते ही भाजपा जिला सदर योगेशपाल गुप्ता भी मौके पहुँचकर उन्होंने धौलपुर पुलिस अधीक्षक से सम्पर्क कर घटना की जानकारी ली है। यहां बता दे कि भाजपा के पूर्व जिला महामंत्री नरेश गुप्ता कैंसर की बीमारी के अलावा अन्य बीमारियों से ग्रसित है। इन बीमारियों का उपचार निरन्तर चल रहा था लेकिन पूर्णतः स्वास्थ्य लाभ न मिलने की वजह से श्री गुप्ता मानसिक रूप से परेशान भी चल रहे थे। वजह यही थी उन्होंने कुछ समय से पार्टी गतिविधियों में भी भाग लेना पूरी तरह बंद कर दिया था। वे अपन्स ज्यातर समय घर पर विताते थे। मंगलवार की रात 11 बजे वे परिजनों को बिना बताए घर से  स्कूटी पर सवार होकर निकल गए। 

बुधबार की सुबह श्री गुप्ता की स्कूटी लावारिश अवस्था में राजघाट पल पर धौलपुर की सीमा में खड़ी हुई थी। चंबल पल पर लावारिश वाहन खड़े होने की सुचना मिलते धौलपुर कोतवाली टीआई श्री तंवर मौके पर पहुँचे । स्कूटी की नम्बर प्लेट देखते ही उन्होंने मुरैना जिले के सरायछोला थाना प्रभारी जोगेंद्र सिंह यादव से संपर्क कर और घटना से अवगत कराया, तो पता चला कि यह स्कूटी भजपा के पूर्व जिला महामंत्री नरेश गुप्ता की है। श्री गुप्ता के परिजनों तक यह सूचना पहुचाई गई। तब पता चला कि श्री गुप्ता मंगलवार की रात से गायब है। वे बीमारियों की वजह से मानसिक रूप से परेशान चल रहे थे। 

हो सकता है इसी परेशानी की वजग से तंग आकर उन्होंने राजघाटपुर से चंबल में छलांग लगाकर  अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली।घटना पर परिजनों के अलावा भजपा जिला सादर डाँ योगेशपाल गुप्ता के अलावा भारी तादात में BJP नेता मौजूद थे। चंबल नदी से मृतक श्री गुप्ता के शव को निकलवाने के लिये मुरैना भाजपा जिला सदर डाँ योगेशपाल गुप्ता धौलपुर और मुरैना पुलिस अधीक्षको से संपर्क में थे।  गौताखोर देर शाम तक चंबल को खंगालते रहे,लेकिन उन्हें कोई सफलता हाथ नहीं लगी यानिकि चंबल नदी से गौताखोर शव नहीं निकाल सके। खबर लिखे जाने तक चंबल नदी में मृतक नरेश गुप्ता के शव की तलाश जारी थी।